बैंकों से धोखाधड़ी करने वाले हरियाणा के गिरोह का किया पर्दाफाश

एटीएम से रुपए निकालने के बाद चॉबी लगाकर ट्रांजेक्शन को कर देते थे फेल

By: harinath dwivedi

Updated: 03 Jul 2021, 01:16 PM IST

खंडवा. एटीएम में रुपए निकालने के बाद तकनीकी छेड़छाड़ कर एटीएम से ट्रांजेक्शन फेल कराकर बैंकों से रुपए रिफंड कराने वाले गिरोह का खंडवा पुलिस ने पर्दाफाश किया है। गुरुवार को दो आरोपियों द्वारा एटीएम में की जा रही गड़बड़ी को लेकर सुरक्षा एजेंसी के अधिकारियों ने पकड़ा था। जिसमें से एक आरोपी भाग निकला। कोतवाली पुलिस ने जब मामले में आरोपी से पूछताछ की तो हरियाणा के ठग गिरोह द्वारा देशभर में इस तरह से बैंकों से धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। पुलिस ने आरोपी के पास से 87 एटीएम कार्ड भी बरामद किए है। पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह ने बताया कि लंबे समय से बैंकों द्वारा एटीएम से विड्राल के बाद भी ट्रांजेक्शन फेल होने की सूचना आ रही थी। जिसे लेकर बैंक एटीएम की सुरक्षा में लगी कंपनी के अधिकारियों को ऐसी किसी भी घटना पर तुरंत जानकारी देने को कहा गया था। गुरुवार को हरीगंज स्थित एसबीआइ के एटीएम पर ट्रांजेक्शन फेल होने की जानकारी पर तुरंत ही सुरक्षा अधिकारी वहां पहुंचे थे। इस दौरान दो युवक एटीएम से छेडख़ानी कर रहे थे। सुरक्षाकर्मियों ने दोनों को पकडऩे की कोशिश की लेकिन एक युवक भाग निकला। दूसरे को कोतवाली पुलिस के हवाले किया गया। पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम मोहम्मद अंसार पिता शोहराब बताया। फरार युवक का नाम शहजाद बताया, दोनों हरियाणा के नूह जिले के झारोकारी गांव निवासी है।
इनकी रही प्रमुख भूमिका
एटीएम कार्ड ठगी मामले में सीएसपी ललित गठरे, कोतवाली टीआइ बीएल मंडलोई, अजाक टीआइ ब्रजभूषण हिरवे, एसआइ सुभाष नावड़े, विनोद नागर, एएसआइ हिफाजत अली, आरक्षक धर्मेंद्र अहिरवार, संदीप धाड़े, संजीत कुमार, सचिन बोरनारे, सोहेल खान, ब्रजेश व बैंक सुरक्षा कंपनी एफएसएस के हिमांशु गंगराड़े, अजय सिंह चौहान की मुख्य भूमिका रही।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned