dhuniwale dadaji dham प्रारंभ हुआ गुरु पूर्णिमा पर्व, फेसबुक पेज पर होंगे लाइव दर्शन

दादाजी धाम पर तीन दिवसीय गुरु पूर्णिमा पर्व आरंभ

By: deepak deewan

Updated: 22 Jul 2021, 08:24 AM IST

खंडवा.गुरु पूर्णिमा पर्व यूं तो पूरे देश में मनाया जाता है, लेकिन खंडवा में गुरु भक्ति का अलग ही रंग देखने को मिलता है। यहां तीन दिवसीय पर्व मनाते हैं और इस मौके पर पूरा शहर मेजबान व आने वाला हर दादाजी भक्त खंडवावासियों का मेहमान होता है। हालांकि कोरोना संक्रमण काल के चलते पूर्णिमा पर्व की चमक कुछ फीकी पड़ गई है पर आस्था कम नहीं दिख रही।

पहले दुल्हन के प्रेमी को गोली मारी, फिर दूल्हे ने लिए सात फेरे

जिन रास्तों पर पग-पग भंडारे लगते थे, मेले सजते थे, वहां बुधवार को सन्नाटा छाया रहा। श्री दादाजी धाम में तीन दिवसीय पर्व की शुरुआत बुधवार से हुई। कोविड-१९ प्रोटोकाल के तहत आम दर्शनार्थियों का प्रवेश धाम में प्रतिबंधित किया गया। तीन दिवसीय पर्व के तहत सुबह ४ बजे से दादाजी धाम में सेवादारों की चहल पहल शुरू हो गई थी। सुबह 5 बजे दोनों समाधियों के स्नान, पूजन, आरती की नियमित सेवा से शुरुआत हुई। परंपरा अनुसार धाम के पट खुले रखे गए थे।

आखिरी वक्त तक नहीं छोड़ा मां का हाथ, मां के साथ ही विदा हुआ दस साल का मासूम बेटा

गर्भगृह में प्रवेश प्रतिबंधित होने से बाहर के सेवादारों के लिए छोटे दादाजी महाराज की समाधि के बाहर बड़ी एलइडी लगाई गई थी। दिनभर दादाजी धाम परिसर और बाहर परिसर में लगभग सन्नाटा सा छाया रहा। यहां आम दिनों से भी कम भीड़ नजर आई। दोपहर में स्नान, मालिश, अभिषेक, आरती के दौरान भी सिर्फ सेवादार नजर आए। गुरु पूर्णिमा पर्व पर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा शहर के नाकों पर कोई व्यवस्था नहीं की गई थी।

कांग्रेस ने बदले एमपी के तीन जिलाध्यक्ष, इन नेताओं को सौंपी कमान

हालांकि पूर्व से ही पता होने के कारण बाहर से बुधवार को भक्तों का कोई जत्था नहीं आया। वहीं, पुलिस ने गणेश गोशाला के पास, दादाजी धाम परिसर के बाहर जरूर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगा रखी थी। यहां इक्का-दुक्का श्रद्धालु पहुंचते रहें, जिन्हें किसी ने नहीं रोका। बुधवार को शहर से एक जत्था निशान लेकर दादाजी धाम पहुंचा। सन्मति नगर से तिरोले कुनबी पटेल समाज के लोग पिछले तीन साल से निशान लेकर दादाजी धाम में अर्पित करने पहुंच रहे हैं।

पेगासस जासूसी मामले में राजनैतिक घमासान, कमलनाथ ने मोदी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

पिछले साल निशान यात्रा निरस्त करना पड़ी थी, जिसके कारण इस साल दादाजी धाम में निशान चढ़ाए गए। दरबार ट्रस्ट की ओर से निशान चढ़ाने की अनुमति देने के बाद भक्तों ने निशान अर्पित कर दर्शन किए और वापस लौट गए। दरबार ट्रस्ट के रौचक नागोरी ने बताया कि गुरुवार से दादा दरबार के ऑफिशियल फेसबुक पेज पर लाइव दर्शन की व्यवस्था की गई है। इसके तहत चारों आरती, कथा की दोनों आरती का सीधा प्रसारण फेसबुक पेज पर किया जाएगा। वहीं, मुख्य दिवस पर दिनभर के आयोजनों का लाइव करने की भी तैयारी की जा रही है।

Show More
deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned