कोविड पीआइसीयू वार्ड तैयार, वेंटिलेटर और वॉर्मर लगे

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चल रही तैयारी

By: harinath dwivedi

Published: 28 May 2021, 10:58 AM IST

खंडवा. कोरोना की दूसरी लहर की विदाई के साथ ही तीसरी लहर के आने की संभावनाओं को देखते हुए मेडिकल कॉलेज तैयारियों में जुटा हुआ है। कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा चपेट में आने की संभावना है। जिसके चलते बच्चों के लिए अलग से कोविड वार्ड तैयार किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज जिला अस्पताल बी-ब्लॉक में इसके लिए कोविड पीआईसीयू और कोविड एसएनसीयू बना लिया गया है। यहां गुरुवार को वेंटिलेटर, वॉर्मर भी स्थापित किए गए।
बी-ब्लॉक में एक माह से 14 वर्ष तक के बच्चों के लिए 10 बेड की कोविड शिशु गहन चिकित्सा इकाई (पीआईसीयू) तैयार हो चुका है। दो अलग-अलग कक्षों में पांच-पांच बेड लगा दिए गए है। जिसमें वेंटिलेटर, पोर्टेबल मानिटर, सेंट्रल ऑक्सीजन, सेंट्रल संक्शन सिस्टम की सुविधा भी शुरू कर दी गई है। साथ ही नवजात बच्चों के लिए 10 बेड का एसएनसीयू भी तैयार किया गया है। यहां सिंगल वॉर्मर ट्रॉली का इंस्टालेशन चल रहा है। गुरुवार को व्यवस्थाओं का जायजा लेने मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. अनंत पंवार, डॉ. संजय अग्रवाल, डॉ. सुनील बाजोलिया कोविड पीआईसीयू पहुंचे। यहां उन्होंने वॉर्मर के इंस्टालेशन की जानकारी ली।
माताओं के लिए अलग से बनेगा मदर वार्ड: कोविड पीआईसीयू प्रभारी मेडिकल कॉलेज शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉॅ. प्रमिला वर्मा ने बताया कि बच्चों के संक्रमित होने पर उनके साथ किसी पालक का होना जरूरी रहेगा। इसके लिए बी-ब्लॉक में ही मदर वार्ड भी बनाया गया है, जहां बीमार बच्चों की माताओं को रहने की व्यवस्था की गई है। बी-ब्लॉक में चल रहे टीकाकरण कार्य को आगे के कक्ष और ऊपरी मंजिल पर शिफ्ट किया जाएगा। अंदर के प्रवेश द्वार पर बेरिकेडिंग्स की जाएगी। कोविड पीआईसीयू के लिए प्रवेश का मार्ग ए-ब्लॉक से रहेगा। जिससे यहां अन्य लोगों का प्रवेश न हो पाए। निरीक्षण के दौरान मेडिकल कॉलेज शिशु रोग विभाग की डॉ. गरिमा अग्रवाल, डॉ. नंदिनी दीक्षित भी मौजूद थीं।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned