लंदन के बच्चों को फर्राटेदार संस्कृत बोलते सुन छात्राओं ने कंठस्थ किया राष्ट्र अभिवर्धन सूक्त

जनपद संस्कृत सम्मेलन कल गौरीकुंज में...

By: अमित जायसवाल

Published: 09 Dec 2017, 11:51 AM IST

खंडवा. सोशल मीडिया पर एक वीडियो आया। इसमें लंदन के बच्चे फर्राटेदार संस्कृत बोल रहे थे, उनका उच्चारण भी बहुत ही अच्छा था। ये देखकर छात्राओं के मन में आया कि वो भी संस्कृत को करीब से समझेंगी। शिक्षक की मदद ली और अथर्वेद के प्रथम कांड के 29वें सूक्त के छह मंत्र कंठस्थ कर लिए। इन मंत्रों में राष्ट्र की उन्नति, सैन्य शक्ति संवर्धन, सामाजिक समरसता, राष्ट्र शत्रु संहार की कामना है।
छात्राएं तनुप्रिया पाटीदार, खुशी राठौड़, राधिका पाटीदार, शिवानी तंवर, पायल तंवर और नंदिनी मांडले शासकीय हाईस्कूल बडग़ांवमाली की हैं। शिक्षक कुलदीप शर्मा ने इन्हें संस्कृत सिखाने में मदद की। अब इस सूक्त का वाचन १० दिसंबर रविवार को गौरीकुंज सभागार में होने वाले जनपद सम्मेलन में ये छात्राएं करेंगी। जिले के इतिहास में संभवत: एेसा पहली बार होगा। इसको लेकर उत्साह है।

राष्ट्रीय भाव जागृत करना मकसद
शिक्षक शर्मा के अनुसार विद्यार्थियों को राष्ट्राभिवर्धन सूक्त को कंठस्थ कराया है, जिससे राष्ट्रीय भावों को विद्यार्थियों में उत्पन्न किया जा सके। ऋग्वेद, अथर्वेद के अनुसार हमारी राष्ट्र की परिभाषा का मुख्य आधार हमारी संस्कृति है। जीवन मूल्य हैं। इसके अलावा बच्चों को ये बताना कि मन को द्वेष रहित रखने से परस्पर प्रेम भावना बढ़ती है।

विदेशों में अनिवार्य कर रहीं हैं यूनिवर्सिटी
संस्कृत को विदेशों में कई यूनिवर्सिटी अनिवार्य कर रही हैं। जबकि मप्र में सरकार ने इसे एच्छिक कर दिया है। छात्र-छात्राएं संस्कृत के विकल्प के रूप में ट्रेडिशनल कोर्स के रूप में सिलाई, कढ़ाई व अन्य ले सकते हैं।
कल जनपद सम्मेलन, शोभायात्रा निकलेगी
१० दिसंबर को संस्कृत भारती द्वारा जनपद सम्मेलन का आयोजन गौरीकुंज सभागार में किया जा रहा है। सुबह १० बजे निगम प्रांगण से शोभायात्रा निकाली जाएगी। शुक्रवार को सम्मेलन की रूपरेखा बनाने को लेकर बैठक हुई, इसमें यशदीप चौरे, सुनील पंवार, कौशल मेहरा, आशीष दसोंदिया व अन्य उपस्थित थे।
खबर के साथ

अमित जायसवाल Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned