मंदिर, मजार, गुरुद्वारा के फूल से बनाएंगे खाद

स्वच्छ सर्वेक्षण-2020... एक वाहन इसी के लिए रिजर्व रखेंगे, अभी दादाजी धाम में चल रहा है प्रोजेक्ट, निगम व कंसलटेंट अब मिशन ग्रीन खंडवा के साथ मिलकर इस प्रोजेक्ट पर करेंगे काम, झीलोद्यान की जलकुंभी हटाए जाने के लिए श्रमदान की योजना पर किया गया मंथन

खंडवा. शहर के धार्मिक स्थानों सहित घरों से निकलने वाले निर्माल्य का उपयोग नगर निगम अब खाद बनाने में करेगा। निगम व कसंलटेंट इस मामले में मिशन ग्रीन खंडवा संगठन के साथ मिलकर काम करेंगे। फिलहाल दादाजी धाम में फूलों से खाद बनाए जाने का प्रोजेक्ट चल रहा है।

झीलोद्यान स्थित नगर निगम जोन-4 में गुरुवार को निगमायुक्त हिमांशु सिंह की मौजूदगी में मिशन ग्रीन खंडवा संगठन के सदस्यों के साथ मंथन हुआ। मंदिर, मजार, गुरुद्वारा सहित अन्य धार्मिक स्थलों पर फूलों का उपयोग होता है, उन्हें चिह्नित कर वहां निगम का विशेष वाहन भेजा जाएगा। इन फूलों का कलेक्शन कर निगम इसकी खाद बनाएगा। निगम के प्रभारी स्वास्थ्य अधिकारी मो. शाहीन खान, कंसलटेंट अमित मिश्रा सहित अन्य मौजूद थे। नगर निगम की कार्ययोजना है कि फूलों से बनने वाले खाद को बेचा जाएगा और इससे जो कमाई होगी, वो स्वच्छता से संबंधित कार्यों पर ही खर्च की जाएगी। इस प्रोजेक्ट में आइआइएम की टीम का भी सहयोग लिया जा रहा है। फिलहाल मिशन ग्रीन के सदस्य अपने-अपने क्षेत्र के धार्मिक स्थलों और लोगों को इस संबंध में समझाइश देंगे। निगम द्वारा इन धार्मिक स्थलों पर बकेट भी उपलब्ध कराया जाएगा, जिसमें फूलों का संग्रहण किया जा सकेगा। भैरोतालाब की जलकुंभी हटाए जाने के लिए श्रमदान की कार्ययोजना तैयार की गई है।

3 हजार से ज्यादा पैकेट श्रद्धालुओं को दिए गए
बड़े दादाजी की बरसी के बाद अब छोटे दादाजी की बरसी पर भी इस खाद को भक्तों को प्रसादी के रूप में दिया गया। ट्रस्टी सुभाष नागोरी, आयुक्त हिमांशु सिंह, कंसलटेंट अमित मिश्रा की मौजूदगी में 3 हजार से ज्यादा पैकेट श्रद्धालुओं को दिए गए।

Show More
अमित जायसवाल Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned