script लोकसभा चुनाव के पहले मोहन सरकार के मंत्रियों को घेरने की तैयारी, जवाब में उलझे अफसर | MP 16th Assembly: Preparations to corner Mohan government ministers | Patrika News

लोकसभा चुनाव के पहले मोहन सरकार के मंत्रियों को घेरने की तैयारी, जवाब में उलझे अफसर

locationखंडवाPublished: Feb 05, 2024 12:48:01 pm

Submitted by:

Rajesh Patel

जनजातीय कार्य विभाग के सबसे अधिक पहुंचे प्रश्न, अधिकारियों-कर्मचारियों की बढ़ी माथा-पच्ची

mp_assembly_protem_speaker_salary_work_and_interesting_facts.jpg
Assembly
मध्य प्रदेश की 16वीं विधानसभा में लोकसभा चुनाव के पहले मोहन सरकार के मंत्रियों को घेरने की तैयारी है। विधायकों के प्रश्नों का जवाब तैयार करने अफसरों का पसीना छूट रहा है। इस बार सरकार के कई मंत्रियों को घेरने की तैयारी है। खंडवा में सबसे अधिक आदिवासी परिवारों को मिलने वाली योजनाओं को लेकर प्रश्न लगाए गए हैं। 16 वीं विधानसभा 7 फरवरी से शुरू होकर 19 फरवरी तक चलेगी। सत्र शुरू होने से पहले सभी प्रश्नों के जवाब विधान सभा को भेजना होगा।
100 प्रश्नों के जवाब भेजे गए भोपाल
रविवार की शाम तक जिला मुख्यालय पर करीब 120 प्रश्न पहुंचे हैं। इसमें ज्यादातर प्रश्न दूसरे जिले के विधायकों के हैं। अब तक करीब 100 प्रश्नों के जवाब भोपाल भेजे गए। प्रश्नों के जवाब सत्र चालू होने से पहले पहुंचाने के लिए प्रश्नों के जवाब तैयार करने में अधिकारी-कर्मचारी उलझे हुए हैं।
पांच साल से कितनी राशि खर्च हुई
विधानसभा में इस बार निमाड़ के अधिकतर विधायकों ने जनजातीय कार्य विभाग में आदिवासियों को मिलने वाली योजनाओं को लेकर सवाल पूछे गए हैं। आस-पास जिले के कुछ विधायकों ने छात्रावास में बालिकाओं और बालकों की कल्याणकारी योजनाओं में पिछले पांच साल से अब तक कितनी राशि खर्च की गई। आदि योजनाओं को लेकर सरकार को घेरने की तैयारी है।
धार के विधायक ने पूछे पांच साल में कितनी छात्राओं की मृत्यु
प्रदेश के धार जिले के एक विधायक ने जनजातीय कार्य विभाग के मंत्री से प्रश्न में पूछा है कि पिछले पांच साल से छात्रावासों में कितनी बालिकाओं की मृत्यु हुई। इसकी वजह भी पूछा है। जिले के जवाब में पांच साल के भीतर दो छात्राओं की मृत्यु की जानकारी भेजी गई है। दोनों के मृत्यु की वजह स्पष्ट नहीं है।
समय-सीमा में जवाब के लिए किया सक्रिय

जिला प्रशासन ने विधानसभा सत्र के सभी प्रश्नों के जवाब तैयार करने सक्रिय रहने को कहा है। कलेक्टर ने प्रश्नों के जवाब समय सीमा में भेजने के लिए कर्मचारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। शासकीय कार्यालयों में शनिवार और रविवार को अवकाश के दिन भी खोले गए। ज्यादातर शासकीय कार्यालयों में विस प्रश्नों का जवाब तैयार करने में व्यस्त रहे।

वर्जन...
शासन की गाइड लाइन के तहत विधानसभा प्रश्नों के जवाब समय-सीमा भेजे जा रहे हैं। अब तक करीब 100 जवाब भेजे जा चुके हैं। विधानसभा सत्र तक संबंधित विभागों में कर्मचारियों की ड्यूटी भी लगाई गई है। ...केआर बड़ोले, अपर कलेक्टर

ट्रेंडिंग वीडियो