बहानेबाजी नहीं चलेगी, एप पर ही लगेगी हाजिरी, नहीं तो कटेगी सैलेरी

बहानेबाजी नहीं चलेगी, एप पर ही लगेगी हाजिरी, नहीं तो कटेगी सैलेरी

Amit Jaiswal | Publish: Mar, 14 2018 07:00:00 AM (IST) Khandwa, Madhya Pradesh, India

नए सत्र के साथ ही 1 अप्रैल से एम शिक्षा मित्र एप भी करेगा काम।

खंडवा. नया शिक्षा सत्र 1 अप्रैल से शुरू हो रहा है और इसके साथ ही एम शिक्षा मित्र भी काम करने लगेगा। खास बात ये है कि ई-अटेंडेंस की तरह इसमें बहानेबाजी नहीं चलेगी। शिक्षकों को एप पर हाजिरी लगाना ही पड़ेगी।
जिले में अब भी 15 फीसदी शिक्षक एेसे हैं, जिन्होंने एप डाउनलोड नहीं किया है, जबकि इसमें लापरवाही बरतने पर उनका वेतन कटेगा। साथ ही आहरण-संवितरण अधिकारी (डीडीओ) भी इसमें लापरवाह माने जाएंगे। बता दें कि इस एप पर न सिर्फ शिक्षकों की निगरानी होगी बल्कि विद्यार्थियों की उपस्थिति भी रहेगी। स्कूल की जानकारी, आरटीई के साथ छात्रवृत्ति व अन्य योजनाओं का भी पूरा ब्योरा होगा। स्कूलों में समय पर नहीं पहुंचने, तय समय से पहले स्कूल छोडऩे या गायब रहने वाले शिक्षकों को आसानी से ट्रेस किए जाने के लिए एम शिक्षा मित्र को फिर से शुरू किया जा रहा है। शिक्षकों को स्कूल में अपनी उपस्थिति डिजिटल तरीके से दर्शाना होगी। इससे पहले ई-अटेंडेंटस में लोकेशन की गड़बड़ थी। शहर के उत्कृष्ट स्कूल के ही शिक्षकों को अटेंडेंस लगाने के लिए कमरे से बाहर मैदान पर आना पड़ता था, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों तो ज्यादा दिक्कत थी। लोकेशन भी ट्रेस करने में परेशानी होती थी लेकिन विभाग का दावा है कि अब एेसा नहीं होगा।

फैक्ट फाइल
5500 शिक्षकों ने डाउनलोड किया एप
1010 शिक्षकों ने अब तक नहीं किया डाउनलोड
01 अप्रैल से हाजिरी नहीं लगाने पर सैलेरी कटेगी

एम-शिक्षा मित्र एप की खास बात...
- होम, शिक्षक, स्कूल, विद्यार्थी और आरटीई के साथ ज्ञानार्जन नाम से छह सेगमेंट रहेंगे।
- होम में राज्य, शासकीय, सीपीआई, राज्य शिक्षा केंद्र, आरएमएसए व जेडी की जानकारियां देख सकेंगे।
- शिक्षक सेगमेंट में वेतन पर्ची, उपस्थितिए छुट्टी का आवेदन, कक्षावार उपस्थित, शिकायत व अन्य
- स्कूल अंतर्गत शा. विद्यालय, अशा. विद्यालय, इनरोलमेंट, आज की उपस्थिति, पुस्तक-गणवेश वितरण।
- विद्यार्थी सेगमेंट में योजनाएं व छात्रवृत्ति की स्थिति, आरटीई में आवंटनए एडमिशन व अन्य जानकारी।
- ज्ञानार्जन सेगमेंट बताएगा कि कितने पाठ पढ़ा चुके हैं, कोर्स किस स्थिति में पहुंचा हैं अब तक।

- सौ फीसदी डाउनलोड कराने के लिए जुटे
हम 1 अप्रैल से पहले जिले के सौ फीसदी शिक्षकों को एप डाउनलोड कराने के प्रयास में है। सभी को निर्देश दिए गए हैं। जो लापरवाही बरतेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
पीएस सोलंकी, डीईओ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned