मेरे घर की बिजली मत काटना, किस्तों में जमा करूंगा बिल

विद्युत उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम शिविर का आयोजन, 5 शिकायतें ही पहुंची


खंडवा. विद्युत वितरण कंपनी के आनंदनगर स्थित अधीक्षण अभियंता कार्यालय परिसर में शनिवार को विद्युत उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम का आयोजन हुआ। फोरम की जानकारी मिलने पर एक गरीब दिव्यांग सुभाष यादव सुबह 11.45 बजे से कार्यालय में आकर बैठ गया। दिव्यांग बिजली बिल की राशि को लेकर परेशान था। जैसे ही फोरम अध्यक्ष वीके गोयल अपनी टीम के साथ आए तो वहां उनके टेबल के सामने हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। उसने बताया कि मैं कब्रिस्तान रोड के पास रहता हूं। पैर से दिव्यांग हूं और सब्जी बेचकर घर का पालन पोषण करता हूं। मई 2018 में मेरे पास संबल योजना का कार्ड है। डुप्लीकेट दस्तोवज मैंने बिजली ऑफिस में जमा कराए। जिसके बावजूद मुझे योजना में शामिल नहीं किया गया। मुझे 9 हजार रुपए का बिल कंपनी ने थमाया। बिल जमा करने पर मेरे घर का कनेक्शन काट दिया। मैं अत्यंत गरीब हूं। उधार रुपए लेकर मैंने 5 हजार रुपए बिल जमा किए है। बाकी रूपए भी किस्तों मैं जमा कर दूंगा। तब तक मेरे घर की बिजली न काटी जाए। मुझे किस्तों में बिल जमा करने अनुमति दे। फोरम के अध्यक्ष गोयल ने भी मौके पर मौजूद कंपनी के अधिकारियों से जानकारी ली। इसके बाद उसकी किस्तों में भुगतान करने की समस्या का समाधान किया।

डेढ़ घंटे चला शिविर

उपभोक्ताओं की शिकायत के लिए परिसर में शनिवार को उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम कैंप का आयोजन हुआ। दोपहर 12 से 1.30 बजे तक शिविर चला। मात्र 5 उपभोक्त शिकायत लेकर पहुंचे। इसमें बिल संबंधी तीन, पंचनामा और सुरक्षा निधि क राशि लौटाने की एक-एक शिकायत आई। फोरम में 4 शिकायतों का तो मौके पर ही निराकरण कराया गया, जबकि शेष शिकायतों को फोरम ने निराकरण आदेशों के लिए सुरक्षित रखा है। बताया जा रहा है कि विद्युत उपभोक्ता शिकायत निवारण शिविर की एक सप्ताह पहले विभाग ने सूचना दी थी। तीन माह पहले अक्टूबर में लगे शिविर में 3 शिकायतें आई थी। शिविर में फोरम के सदस्य अधीक्षण अभियंता डीके पुरोहित, खंडवा अधीक्षण अभियंता एसआर सेमिल, कार्यपालन यंत्री नितिन चौहान, एसके पाटिल, एच चौहान, अक्षय राजपूत, संजय साकल्ले उपस्थित रहे।

अजय पालीवाल Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned