बरसों पुराने मुद्दे ट्रांसपोर्ट नगर पर पांच साल में चले अढ़ाई कोस

बड़े प्रोजेक्ट पर सफलता से शहरवासियों को मिलती राहत: ट्रांसपोर्ट नगर को बसाने का इस परिषद के पास था बेहतर अवसर, इस कार्यकाल में ही टीएंडसीपी की आपत्ति हटी पर मौके को भुना नहीं पाए

खंडवा. शहर पर भारी यातायात का दबाव है और इसे कम करने तथा ट्रैफिक की व्यवस्था में राहत देने का मौका इस परिषद को मिला लेकिन पांच साल में निगम के जिम्मेदार अढ़ाई कोस ही चल पाए। अंतत: बरसों पुराना मुद्दा अब एक बार फिर से नई परिषद के पाले में पहुंच रहा है। यातायात नगर यानी ट्रांसपोर्ट नगर का प्रस्ताव यहां 25 साल से चल रहा है।
नगर निगम की पहली परिषद से ही इसे बजट में शामिल किया जाता रहा है, लेकिन अब तक भी इसका हल नहीं निकल पाया है। नगर निगम की इस परिषद के पास इस मुद्दे का हल निकालने का बहुत बेहतर अवसर था। शुरुआती कुछ समय में प्रयास भी अच्छे किए गए, लेकिन अंत तक आते-आते इन पर सुस्ती छा गई।

ट्रांसपोटर्स-मैकेनिकों के साथ नहीं कर पाए चर्चा
ट्रांसपोर्ट नगर में पहले चरण में मूलभूत सुविधाएं जैसे- सड़क, पेयजल, सार्वजनिक प्रकाश व्यवस्था किए जाने के बाद यहां तौल कांटा, ढाबे, स्वल्पहार ग्रह सहित ट्रक एवं वाहनों की मरम्मत की दुकानें बनाई जाना प्रस्तावित किया गया। यहीं पर ट्रांसपोर्ट संचालकों को दुकानों का आवंटित कर यातायात नगर को विकसित किए जाने की बातें हुईं। इसके लिए शहर के ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों और मैकेनिकों के साथ बैठक कर पहले दौर की चर्चा के बाद फिर से बात करने के लिए अवसर ही तय नहीं कर पाए।

एक नजर...
25 साल से चल रहा ट्रांसपोर्ट नगर का मुद्दा
03 साल पहले ही टीएंडसीपी की अनापत्ति मिली
29 करोड़ रुपए का है ट्रांसपोर्ट नगर का पूरा प्लान
3.83 करोड़ रुपए के काम पहले चरण में निकाले

पहले चरण में इस तरह के प्रयास
शहर के यातायात को व्यवस्थित करने के नजरिये से नई अनाज मंडी के पीछे नगर निगम ने नए ट्रांसपोर्ट नगर में 3 करोड़ 83 लाख 70 हजार रुपए की लागत से पहले चरण का कार्य शुरू किया था।
पहले चरण में सीमेंट कांक्रीट रोड, नालियां और पुलियाएं बनाई जाना प्रस्तावित किया गया, लेकिन ये काम इतनी सुस्त चाल से आगे बढ़ा कि अब परिषद का कार्यकाल ही खत्म होने की ओर है।
चौबीस एकड़ जमीन पर बनाए जाने वाले ट्रांसपोर्ट नगर को निगम ने चरणबद्ध तरीके से विकसित किए जाने के दावे किए थे। लेकिन पहले चरण में ही इन दावों का दम
फूल गया।
नए यातायात नगर के बनने से शहर के मध्य क्षेत्र में यातायात का दबाव कम होने के साथ मुख्य मार्गों पर आवागमन सुलभ होने की सुविधा मिलेगी। ट्रांसपोर्ट नगर को विकसित करने 29 करोड़ का प्लान है।


- हमारी सक्रियता से ही शुरू हो पाए काम

ट्रांसपोर्ट नगर हमारी प्राथमिकताओं में रहा और इसी का नतीजा रहा कि इसके निर्माण की राह के अड़ंगे हमने हटवाए। पहले चरण का काम भी शुरू करा दिया लेकिन फंड भी बहुत मायने रखता है। इसके हिसाब से आगे बढ़ पाते हैं। ट्रांसपोर्ट नगर के लिए हमने नींव रख दी है, उम्मीद है आगे इस पर काम होगा। -सुभाष कोठारी, महापौर

अमित जायसवाल Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned