दो गुना महंगी कर दी मरीजों की सांसों के लिए ऑक्सीजन

-मेडिकल कॉलेज का पुराने दाम पर अनुबंध, चिकित्सा शिक्षा विभाग से लेनी होगी अनुमति
-325 रुपए का सिलेंडर सिलेंडर अब मिल रहा 600 रुपए में
-150 ऑक्सीजन सिलेंडर की रोज आवश्यकता, सप्लायर के पास 8 दिन का स्टॉक

खंडवा.
कोविड में भर्ती गंभीर मरीजों की सांसों के लिए मिलने वाली ऑक्सीजन दो गुनी महंगी हो गई है। मेडिकल कॉलेज अभी तक पुराने अनुबंध पर ही ऑक्सीजन सिलेंडर ले रहा है। सप्लायर ने महंगी खरीदी के बाद मेडिकल कॉलेज को दिए जाने वाले ऑक्सीजन सिलेंडर के दाम भी बढ़ा दिए है। फिलहाल ऑक्सीजन आपूर्ति तो जारी है, लेकिन चिकित्सा शिक्षा विभाग से महंगे दाम पर खरीदी जा रही ऑक्सीजन की अनुमति नहीं मिली तो एक बार फिर मरीजों की सांसों पर संकट गहरा सकता है।
जिले में चिकित्सा उपयोग के लिए ऑक्सीजन सप्लाय का कार्य एकमात्र सप्लायर द्वारा गुजरात की आयनॉक्स कंपनी के माध्यम से किया जा रहा था। कंपनी ने मप्र में ऑक्सीजन सप्लाय करने से मना कर दिया था, जिसके बाद खंडवा में भी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों के लिए ऑक्सीजन का संकट गहरा गया था। प्रशासन की पहल के बाद सप्लायर राजकुमार गुप्ता को पीथमपुर की इन्हर्ट कंपनी से लिक्विड ऑक्सीजन तो मिली, लेकिन आयनॉक्स कंपनी से दोगुना दाम में। लिक्विड ऑक्सीजन का जो टैंक पहले 2.5 लाख में आता था, उसके लिए सप्लायर को 6 लाख रुपए चुकाना पड़े।
जिसके बाद सप्लायर राजकुमार गुप्ता ने भी ऑक्सीजन सिलेंडर के दाम दो गुने कर दिए। मेडिकल कॉलेज को सात क्यूबिक मीटर ऑक्सीजन क्षमता वाला जो सिलेंडर पहले 325 रुपए में मिल रहा था, अब उसके दाम 600 रुपए हो गए है। सप्लायर ने इसकी जानकारी मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. अनंत पंवार को दे दी है। सप्लायर और मेडिकल कॉलेज के बीच हुए अनुबंध के अनुसार कॉलेज को 325 रुपए से अधिक दाम चुकाने के लिए दोबारा चिकित्सा शिक्षा आयुक्त से अनुबंध बढ़ाने की अनुमति लेनी होगी। डीन डॉ. अनंत पंवार ने बताया कि इसकी जानकारी उच्च अधिकारियों को दे दी है। वहां से इसकी अनुमति मिल जाएगी।
गंभीर मरीजों को लग रही 40 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन
कोविड अस्पताल के डीसीएच आयसोलेशन वार्ड में 24 मरीज वर्तमान में भर्ती है। इन सभी मरीजों को रोजाना ऑक्सीजन लग रही है। इसमें छह मरीजों को दोगुना ऑक्सीजन लग रही है। बायपेप पर तीन और तीन को हाई फ्लो नेजल केनुला दी जा रही है। सामान्य मरीज को प्रति मिनट 20 लीटर ऑक्सीजन और बायपेप व हाई फ्लो वाले मरीज को 40 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन लग रही है। एक सामान्य मरीज को 24 घंटे में चार और बायपेप, हाइ फ्लो नेजल केनुला वाले एक मरीज को आठ ऑक्सीजन सिलेंडर रोज लग रहे है।
40 हजार रुपए रोज की हुई बढ़ोत्तरी
कोविड अस्पताल में गंभीर मरीजों की संख्या बढऩे के साथ ही ऑक्सीजन की खपत भी बढ़ी है। पहले जहां 100 से 120 सिलेंडर रोज लग रहे थे। वहीं, पिछले आठ दिनों से ये संख्या बढ़कर 150 से 155 तक पहुंच गई है। मेडिकल कॉलेज सप्लायर से 150 ऑक्सीजन सिलेंडर रोज ले रहा है। जिसके लिए अब तक रोजाना 48750 रुपए चुकाना पड़ रहे थे। अब ऑक्सीजन सिलेंडर के दाम दो गुना होने पर मेडिकल कॉलेज को रोजाना 90 हजार रुपए चुकाना होंगे, जो 40 हजार रुपए ज्यादा है।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned