पर्युषण पर्व  -जैन मंदिरों में हुई उत्तम मार्दव धर्म की पूजा

-अभिषेक व शांतिधारा के साथ की गई श्रीजी की महाआरती

खंडवा.
दिगंबर जैन समाज के पर्युषण महापर्व चल रहे हैं। खंडवा के समस्त दिगंबर जैन मंदिरों में दश लक्षण मंडल विधान की पूजा मंदिरों में श्रद्धालुओं द्वारा की जा रही है। पर्युषण पर्व के दूसरे दिन उत्तम मार्दव धर्म की पूजा श्रद्धालुओं द्वारा की गई। सराफा स्थित पाŸवनाथ जैन मंदिर में पर्युषण महापर्व पर भगवान पाŸवनाथ की प्रतिमा को रजत सिंहासन पर विराजमान कर मंदिरजी की चारों दिशाओं में पूजन अभिषेक कर मुख्य वेदी तक लाया गया। यहां यंत्र व चौबीसी तीर्थंकर की प्रतिमा भी मूलनायक प्रतिमाजी के साथ विराजमान की गई।
क्षेत्र पाल का पूजन कर वेदीजी में विराजित श्रीजी का भक्ति भाव से पूजन पंचामृत अभिषेक कर शांतिधारा संपन्न कराई गई। पं. निखलेश जैन ने पूजन व अर्घ के श्लोक पढ़े और कांतिलाल जैन, अक्षय जैन, संजय पंचोलिया तथा प्रेमांशु चौधरी ने भजनों की प्रस्तुती दी। इस अवसर पर समाज अध्यक्ष वीरेंद्र भट्याण सहित बुजुर्ग, महिलाएं, बच्चे एवं युवा उपस्थित थे। शांतिधारा के पश्चात महाआरती में श्रद्धालुओं ने उत्साह से भाग लिया। वहीं घासपुरा महावीर जैन मंदिर में भी पर्युषण पर्व के दूसरे दिन उत्तम मार्दव धर्म की पूजा अर्चना की गई। शांतिधारा करने का सौभाग्य सतीश पहाडिय़ा और धनपाल कासलीवाल परिवार को प्राप्त हुआ। शांतिधारा का वाचन नीता अमर लुहाडिय़ा द्वारा किया गया।
समयसार मंडल विधान की पर्यूषण पर हो रही पूजा अर्चना
सराफा स्थित पोरवाड़ दिगंबर जैन मंदिर ट्रस्ट एवं मुमुक्ष मंडल के संयुक्त तत्वावधान में पर्युषण पर्व का प्रथम दिवस उल्लास पूर्वक मनाया गया। मुमुक्ष मंडल द्वारा समयसार मंडल विधान आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन नितिन जैन व रानी जैन द्वारा किया गया। इस अवसर पर 10 दिनों तक सराफा जैन धर्मशाला में श्रीजी का अभिषेक एवं नियम पूजा एवं दश लक्षण विधान पूजन हुआ। ललितपुर से आए बाल ब्रह्मïचारी पं. कैलाशचंद अचल का प्रवचन चल रहे हैं। वहीं, दिगंबर जैन धर्मशाला सराफा में दोपहर में पंडित दिनेश कासलीवाल द्वारा संगीतमय सुर ताल में समयसार विधान कराया जा रहा है।

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned