मुख्यमंत्री की जन यात्रा की तैयारियों में यह गलती बनेगी अाशीर्वाद में रोड़ा

मुख्यमंत्री की जन यात्रा की तैयारियों में यह गलती बनेगी अाशीर्वाद में रोड़ा

jitendra tiwari | Publish: Sep, 03 2018 09:05:09 AM (IST) Khandwa, Madhya Pradesh, India

सीएम की जनआशीर्वाद यात्रा रथ निकालने के लिए बिजली तार किए जा रहे ऊंचे, सुरक्षा संंसाधनों के अभाव में जोखिम में जान डाल कर्मचारी कर रहे बिजली लाइन का मेंटेनेंस

खंडवा. मुख्यमंत्री की जनआशीर्वाद यात्रा भले ही ५ सितंबर को आ रही हो, लेकिन आमजन की परेशानी शनिवार से ही बढ़ गई। जहां भाजपा नेता और कार्यकर्ताओं में बैनर-पोस्टर लगाने की होड़ मची हुई है। वहीं जनआशीर्वाद यात्रा का रथ निकालने के लिए बिजली के तार ऊंचे करने का कार्य किया जा रहा है। जिस कारण सुबह से ही शहर में बिजली कटौती हो रही है। इससे राहगीरों के साथ ही दुकानदार और आमजन को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जनआशीर्वाद यात्रा में सीएम के रथ की ऊंचाई अधिक होने की वजह से शहर के मुख्य मार्ग के बिजली तारों को ऊपर किया जा रहा है। ऐसे में रविवार को मुख्य बाजार सहित शहर के कई इलाकों में सुबह से ही बिजली बंद हो गई। बिजली कटौती का कुछ ऐसा ही हाल जिले के उन क्षेत्रों का है जहां से यात्रा गुजरनी है।
बिजली बंद से जरूरी काम हुए प्रभावित
जनआशीर्वाद की अगुवाई के लिए शहर में चल रहे बिजली तार ऊंचे करने के कार्य के तहत रविवार सुबह ७ बजे से हरिगंज, ब्राह्मपुरी, सराफा सहित अन्य क्षेत्रों में बिजली बंद रही है। इसके अलावा बांबे बाजार, घंटाघर, जलेबी चौक आदि क्षेत्रों में दोपहर १ बजे तक बिजली बंद रही। सुबह से बिजली बंद होने से घरों में लोग पानी से लेकर अन्य जरूरी कामों के लिए परेशान होते रहे। वहीं कार्यालय में काम प्रभावित हुए।
कटौती से लोगों में रोष, जताया विरोध
शहर में अक्सर बिजली बंद होने से लोगों में रोष व्याप्त है। शहरवासियों का कहना है कि बिजली कंपनी पहले तो मानसून मेंटेनेंस की बात कहकर हफ्तों से घंटों बिजली कटौती कर मेंटेनेंस करते हैं। वहीं अब सीएम की जनआशीर्वाद यात्रा को लेकर पांच से छह घंटे तक बिजली कटौती की जा रही है। जिस कारण लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। बिजली कटौती पर लोगों ने विरोध जताया है।
ये लापरवाही कहीं भारी न पड़ जाए
बिजली लाइन को ऊंचा करने का काम कर रहे कर्मचारी जान जोखिम में डालकर लाइन लिफ्टिंग कर रहे हैं। रविवार को किए जा रहे कार्य के दौरान चौंका देने वाले दृश्य नजर आए। सराफा बाजार के पास दो कर्मचारी बिजली पोल पर चढ़े हुए थे। यहां वह बगैर कोई सुरक्षा इंतजाम के कार्य कर रहे थे। कर्मचारियों के पास न तो ग्लब्ज थे और न ही अन्य कोई संसाधन थे। यदि ऐसे में जरा भी चूक हो जाती तो बड़ी घटना से इनकार नहीं किया जा सकता था। साथ ही यदि किसी कर्मचारी की जान पर बन आती तो इसका जिम्मेदार कौन होता।

इन क्षेत्रों में झूलते तारों का जिम्मा किसका
इधर, मुख्यमंत्री की जनआशीर्वाद यात्रा के रूट पर झूलते तारों को कंपनी ने दुरुस्त कर लिया, लेकिन शहर के अन्य हिस्सों में सड़कों पर बिजली तार झूल रहे हैं। इन तारों को दुरुस्त करने पर किसी का ध्यान भी नहीं है। इस समय शनि मंदिर क्षेत्र, गणेश गोशाला, कहारवाड़ी आदि इलाकों में सड़कों के बीच तार है। जबकि इन रास्तों से भारी वाहन गुजरते हैं। ऐसे में कई बार वाहन से बिजली तार टकराते हैं।
वर्जन...
सीएम की जनआशीर्वाद यात्रा को लेकर बिजली तारों को ऊंचा किया जा रहा है। इस कारण बिजली कटौती करना पड़ रही है। यात्रा मार्ग के तारों को रथ के हिसाब से ऊंचा किया जाएगा।
आरके दाने, मेंटेनेंस प्रभारी

Ad Block is Banned