पढिए क्यूं हेल्थ डायरेक्टर से झूठ बोले सिविल सर्जन

पढिए क्यूं हेल्थ डायरेक्टर से झूठ बोले सिविल सर्जन
Read why civil surgeon lied Health Director

Editorial Khandwa | Publish: Jun, 24 2016 11:58:00 PM (IST) Khandwa, Madhya Pradesh, India

- हेल्थ डायरेक्टर चौहान से मीडिया ने पूछा था सवाल, बंद है एंबुलेंस में उपकरण तो सर्जन ने बोले थे चालू है




खंडवा. संभागीय स्वास्थ्य बैठक में शामिल होने आए हेल्थ डायरेक्टर बीएन चौहान ने जिला अस्पताल के बिगड़े ढर्ऱे पर जमकर नाराजगी जाहिर की। मीडिया ने एडवांस लाइफ सपोर्ट एबुलेंस में उपकरण खराब होने का सवाल पूछा था, इस पर सिविल सर्जन डॉ. ओपी जुगतावत ने डायरेक्ट से झूठ बोलते हुए सारे उपकरण चालू होने का दावा किया था। डायरेक्ट ने सुबह एंबुलेंस का स्पॉट निरीक्षण किया तो उपकरण व जीपीआरएस सिस्टम बंद मिला।
इस मामले में शुक्रवार को जिले के एंबुलेंस 108 के प्रभारी सुनील कुमार व भोपाल कंपनी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। वहीं सिविल सर्जन को भी झूठी जानकारी देने पर हिदायत दी। दतिया कलेक्टर की मां को एंबुलेंस में वेंटिलेटर नहीं मिला था। मौत के बाद प्रदेश के सभी 51 जिलों में एंबुलेंस में सुविधाए दुरुस्त रखने के निर्देश जारी किए गए हैं। जिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान इंजेक्शन रूप में लापरवाही बरतने पर प्रभारी रजनी मेहता की दो वेतनवृद्धि रोकने के निर्देश जेडी डॉ. शरद पंडित को दिए।
आठ जिलो के अफसरों को छह घंटे बताया प्रबंधन
संभाग स्तरीय क्वालिटी कंट्रोल की कार्यशाला शहर से बाहर एक निजी होटल में हुई। इसमें इंदौर सहित संभाग के आठ जिलों के सीएमएचओ, सिविल सर्जन, आरएमओ, पैथॉलाजिस्ट, ओटी स्टॉफ व लेबर रूम नर्स शामिल हुई। भोपाल के क्वालिटी कंट्रोल के उपसंचालक डॉ. पंकज शुक्ला ने स्लाइड शो के माध्यम से खंडवा जिला अस्पताल की व्यवस्था दिखाई तथा एक-एक पहलू को विस्तार से समझाया।
आंखों से देखी व्यवस्था, अब खुद सुधारेंगे अस्पताल
इंदौर जेडी डॉ. शरद पंडित सहित आठ जिलो के स्वास्थ्य अफसरों ने बारिकी से शाम 6 बजे जिला अस्पताल देखा। आपातकाली कक्ष, मेल सर्जिकल व फिमेल सर्जिकल वार्ड देखे। ट्रामा सेंटर देखा, लेडी बटलर, एसएनसीयू के कार्य को बारिकी से देखा। आखिर खुद समझकर सभी अफसर अपने-अपने जिले के अस्पतालों को सुधारने का प्रयास करेंगे। वर्ष 2016-17 के लिए जिला अस्पताल के साथ ही सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को भी पुरस्कार मिलेगा।
आईसीयू में जुतें पहनकर पहुंचे अफसर
नियमों का पाठ पढऩे और पढ़ाने के लिए हेल्थ डायरेक्टर, जेडी व सीएमएचओ सहित आठ जिलों का स्वास्थ्य महकमा खंडवा आया था। लेकिन जिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान हार्ट यूनिट के आईसीयू में सभी अफसर-कर्मी जुतें पहनकर पहुंचे। हालांकि आईसीयू में जुतें बाहर उतारवाई जाती है। अंदर के लिए स्लीपर दी जाती है।
पढि़ए क्यूं हेल्थ डायरेक्टर से झूठ बोले सिविल सर्जन

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned