पिछले साल से ज्यादा हुआ पंजीयन, फिर भी रजिस्ट्रेशन के लिए बाकी बचे किसान

-सर्वर डाउन होने से गेहूं-चना इ-उपार्जन पंजीयन में आ रही परेशानी
-इस साल पंजीयन में 30 प्रतिशत किसानों की संख्या बढ़ी, खरीदी भी होगी ज्यादा

खंडवा.
समर्थन मूल्य गेहूं, चना इ-उपार्जन के लिए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा किसानों का पंजीयन किया जा रहा है। मंगलवार तक पिछले साल के पंजीकृत किसानों की तुलना में पांच हजार से ज्यादा किसान पंजीयन करा चुके थे। इसके बाद भी सर्वर डाउन होने के कारण जिले में इ-पंजीयन के लिए कई किसान बाकी बचे रह गए है। हालांकि पंजीयन के लिए गुरुवार को अंतिम दिन है, लेकिन सर्वर की परेशानी को देखते हुए भारतीय किसान संघ ने पंजीयन की तारीख बढ़ाने की मांग की है।
पिछले साल गेहूं-चना उपार्जन के लिए 35879 किसानों ने पंजीयन कराया था। जबकि इस साल मंगलवार तक 41124 किसान अपना पंजीयन करा चुके थे। बुधवार को भी पंजीयन का कार्य जारी रहा, लेकिन सर्वर डाउन होने से पंजीयन कार्य प्रभावित हुआ। भारतीय किसान संघ जिला समन्वयक सुभाष पटेल ने बताया कि अभी भी कई किसान पंजीयन के लिए बाकी बचे हुए हैं। इस साल पंजीयन का आंकड़ा 50 हजार तक जा सकता है। बचे हुए किसानों के पंजीयन के लिए तारीख बढ़ाई जानी चाहिए। उल्लेखनीय है कि जिले में इ-पंजीयन का कार्य 1 फरवरी से आरंभ हुआ था। इस बीच चार फरवरी से सहकारी समितियों की हड़ताल के चलते इ-पंजीयन कार्य प्रभावित हुआ था। हड़ताल समाप्त होने के बाद भी परेशानी खत्म नहीं हुई और सर्वर डाउन होने से पंजीयन कार्य पूरा नहीं हो पा रहा है।
2.5 लाख मीट्रिक टन खरीदी की संभावना
पिछले साल गेहूं-चना उपार्जन में 35879 किसानों ने पंजीयन कराया था। जिसमें 26975 पंजीकृत किसानों से सरकार ने 201412 मीट्रिक टन गेहूं खरीदा था। पिछले साल गेहूं का रकबा करीब एक लाख हेक्टेयर था, जबकि इस साल रबी में गेहूं का रकबा बढ़कर 1.15 लाख हेक्टेयर हो गया है। इस साल किसानों के पंजीयन की स्थिति देखते हुए समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी ढाई लाख मीट्रिक टन होने की संभावना है।
कोई लक्ष्य नहीं, सभी का होगा पंजीयन
गेहूं इ-उपार्जन के लिए किसानों के पंजीयन का कोई लक्ष्य नहीं रखा गया है। जितने भी किसान पंजीयन कराना चाहते हैं, उनका पंजीयन किया जा रहा है। पंजीयन की अंतिम तारीख आज है, इसे बढ़ाने का निर्णय उच्च स्तर से होगा। यदि तारीख बढ़ती है तो पंजीयन कार्य चालू रहेगा। गेहूं की खरीदी 25 मार्च से आरंभ होगी।
तरुण कुमार यादव, प्रभारी खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned