सुबह खुलती हैं दुकानें, जुटती है भीड़, ना सोशल डिस्टेंस ना कोरोना कफ्र्यू का पालन

प्रशासन की आंख खुलने से पहले ही खेल कर रहे हैं दुकानदार, दुकानें सील, चालानी कार्रवाई और 188 में केस दर्ज होने के बाद भी नहीं हो रहा सुधार, तोडऩा है कोरोना संक्रमण की चेन, ये जोडऩे में लगे

By: harinath dwivedi

Published: 05 May 2021, 12:38 PM IST

खंडवा. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर खतरनाक होते जा रही है। संक्रमण की चेन को तोडऩे के लिए सरकार ने कोरोना कफ्र्यू भी लगाया हुआ है। इसके बाद भी कुछ लोग संक्रमण की चेन को तोडऩे की बजाए जोडऩे में लगे हुए है। सुबह और शाम को शहर में ऐसा लग ही नहीं रहा कि कोरोना कफ्र्यू लगा हुआ है। प्रशासन की आंख खुलने से पहले दुकानदार खेल कर रहे हैं। सुबह दुकानें खुलती है, भीड़ जुटती है और जब तक कार्रवाई हो, सन्नाटा छा जाता है।
प्रशासन द्वारा दुकानें सील करने, निगम द्वारा चालानी कार्रवाई करने, पुलिस द्वारा 188 के केस दर्ज करने के बाद भी स्थिति में सुधार नहीं आ रहा है। पिछले कोरोना काल के लॉक डाउन की अपेक्षा कोरोना कफ्र्यू में पुलिस ने कम सख्ती बरती है। इसका फायदा भी कई लोग उठा रहे है। सिर्फ चालानी कार्रवाई होने से वाहन चालक बिंदास घुम रहे है। निगम द्वारा भी सिर्फ खुली दुकानों के चालान बनाए जा रहे है, जिसका भी कोई असर नहीं दिख रहा है। पुलिस ने खुली दुकानों, कफ्र्यू का उल्लंघन करने वालों पर धारा 188 के तहत केस भी दर्ज किए है। तीनों थाना क्षेत्र में रोज पांच से आठ केस धारा 188 के पंजीबद्ध हो रहे है। वहीं, प्रशासन का अमला भी रोजाना किसी न किसी दुकान को सील कर रहा है।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned