नर्मदा जल योजना पर आया ये बड़ा बयान, मंत्री ने कहा- 10 दिन का समय दो और फिर नतीजा दिखेगा

नर्मदा जल योजना पर आया ये बड़ा बयान, मंत्री ने कहा- 10 दिन का समय दो और फिर नतीजा दिखेगा
statement by Minister Tulsi Silavat on Narmada jal yojna

Amit Jaiswal | Publish: Jun, 14 2019 03:51:28 PM (IST) | Updated: Jun, 14 2019 03:57:05 PM (IST) Khandwa, Khandwa, Madhya Pradesh, India

प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा खंडवा के प्रभारी मंत्री ने कहा कि मैंने कलेक्टर, एसपी व निगमायुक्त से साफ शब्दों में कह दिया है।

खंडवा. नर्मदा जल योजना के मुद्दे पर जब पूरा शहर त्रस्त है, तब प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा खंडवा के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट का बड़ा बयान सामने आया है।

मंत्री सिलावट ने शुक्रवार को खंडवा के कलेक्ट्रेट सभागार में अफसरों के साथ समीक्षा की। इसके बाद उन्होंने यहां कहा कि पानी समय पर मिले, बिजली समय पर मिले, ये मेरी जिम्मेदारी है। सभी अधिकारियों को इस संबंध में निर्देश दे दिए गए हैं। खंडवा के किसी भी मोहल्ले में, किसी भी वार्ड में जलसंकट नहीं होने दिया जाएगा। किसी भी साधन से पानी उपलब्ध कराया जाएगा।

थर्ड पार्टी की बात, जांच के आदेश
प्रभारी मंत्री सिलावट ने कहा कि नर्मदा जल योजना के जांच के आदेश दे दिए गए हैं, शुरू से लेकर अब तक जो भी दोषी होंगे, उन पर कार्रवाई की जाएगी। जांच के साथ ही मैंने थर्ड पार्टी की बात कही है। जिस तरह का अनुबंध था, कोई दिक्कत आ रही थी, कोई अड़चन आ रही थी, मैंने कहा कि विधि से सारा लो और कार्रवाई करो। सख्त निर्देश दे दिए हैं, इसमें कोई समझौता नहीं, क्योंकि नर्मदा से जुड़ा हमारा संबंध है।

10 दिन का समय दो और फिर नतीजा दिखेगा
जब प्रभारी मंत्री से पूछा गया कि शहर अभी जलसंकट से जूझ रहा है, वैकल्पिक तौर पर क्या होगा? तो उन्होंने कहा कि पानी देना प्राथमिकता है, सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर, एसपी, निगम कमिश्नर को कहा है कि योजना को देखें, कहां कमी पाई गई है, इसको सुधारा जाए। 10 दिन का समय दीजिए। इसके बाद नतीजा दिखेगा, कार्रवाई की जाएगी। जिला योजना समिति की बैठक में आ रहा हूं, सारे संबंधित अधिकारी को निर्देश दे चुका हूं, समीक्षा करूंगा।

...और इसके पहले भाजपाइ और कांग्रेसी यहां हुए गुत्थमगुत्था
इस सबके पहले मंत्री तुलसी सिलावट के सामने शिकायत लेकर पहुंचे भाजपाइयों की यहां मौजूद कांग्रेस पदाधिकारियों, पार्षदों और कार्यकर्ताओं से बहस हो गई। बहस इतनी बढ़ी कि भाजपा के विधायक देवेंद्र वर्मा, भाजपा जिला अध्यक्ष हरीश कोटवाले के सामने ही भाजपाई और कांग्रेसी गुत्थमगुत्था हो गए। ये एक-दूसरे को मारने के लिए खड़े हो गए। खंडवा के सर्किट हाउस में हुए इस वाकये के बीच यहां जो लोग मौजूद थे, उन्होंने इस लड़ाई को खत्म कराने के लिए प्रयास किए। भाजपाइयों और कांग्रेसियों के बीच यह विवाद 106 करोड रुपए की नर्मदा जल योजना में हुए भ्रष्टाचार की बात को लेकर बढ़ा। बता दें की योजना यहां जब स्वीकृत हुई थी, तब भाजपा की परिषद थी और तब से लेकर अब तक भाजपा के पास ही नगर निगम खंडवा की कमान रही है। अब जबकि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है तो भाजपाइयों द्वारा पाइप लाइन डालने में हुए भ्रष्टाचार की शिकायत पर कांग्रेसियों ने इसी मुद्दे पर तंज कसा। जिसे लेकर बहसबाजी बढ़ गई और मुद्दा मारपीट तक पहुंच गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned