विदेश से प्रशिक्षण लेकर कृषि कॉलेज के विद्यार्थी दूसरों को देंगे नौकरी

खुद को रोजगार स्थापित करने बनाएंगे योग्य, कॉलेज कैंपस में वाइफाई जोन, वर्जुअल क्लास रुम बनाने चल रहा कार्य

खंडवा. नेशनल एग्रीकल्चर हायर एजुकेशन प्रोजेक्ट (एनएएचइपी) प्रोजेक्ट के तहत भगवंतराव मंडलोई कृषि कॉलेज सहित प्रदेश के पांच कॉलेज के स्नातक विद्यार्थियों को खुद को नौकरीदाता बनाने, स्वयं का रोजगार स्थापित करने के काबिल बनाया जाएगा।

इन विद्यार्थियों को देश और विदेश के प्रतिष्ठित संस्थानों में आधुनिक प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। साथ ही कॉलेज में इन विद्यार्थियों को आधुनिक तरीके से और व्यक्तित्व विकास कराया जाएगा।नेशनल एग्रीकल्चर हायर एजुकेशन प्रोजेक्ट (एनएएचइपी) प्रोजेक्ट के लिए वल्र्ड बैंक 22 करोड़ रुपए देगी। देश के चुनिंदा कृषि विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को इसका फायदा मिलेगा। इसमें मप्र के राजमाता विजया राजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर के पांच कॉलेज के स्नातक के विद्यार्थी भी शामिल रहेंगे। एनएएचइपी प्रोजेक्ट पर कार्य शुरू हो चुका है।

नवाचार का यह है उद्देश्य
कॉलेज के डीन डॉ. यूपीएस भदौरिया ने बताया एनएएचइपी का मुख्य कृषि स्नातक छात्र-छात्राओं को मार्केट रेडी प्रोजेशनली बनाना है। पढ़ाई के बाद विद्यार्थी नौकरी पानेवाला नहीं, नौकरीदाता बने। स्वयं का रोजगार स्थापित कर सकें और वहां कई युवाओं को नौकरी दे।

वाइफाई जोन होगा कैंपस, नई टैक्नालाजी से पढ़ेंगे विद्यार्थी
राजमाता विजया राजे सिंधिया कृषि विश्विद्यालय के खंडवा, इंदौर, ग्वालियर, मंदसौर और सीहोर कृषि कॉलेज में प्रोजेक्ट के तहत कार्य शुरू हो चुका है। खंडवा कृषि कॉलेज की बिल्डिंग, गल्र्स, बॉयज होस्टल में वाईफाई उपलब्ध है। प्रोजेक्ट में 35 एकड़ कैंपस को वाइफाइ जोन बनाया जा रहा है। जिसमें हाई स्पीड डेटा नेट मिलेगा। वर्चुअल क्लास रूम तैयार की जा रही। इसमें विद्यार्थियों को एक ही स्थान पर प्रैक्टिकल नॉलेज दिया जाएगा। वैज्ञानिक खेत लगी फसल का निरीक्षण या उसमें लगे बीमारी को देखने जाते है तो टैक्नालॉजी के माध्यम से वर्चुअल रूम में विद्यार्थी उस चीज को देखकर प्रैक्टिल कर पाएंगे। विद्यार्थियों में व्यक्तित्व विकास के लिए भी कार्य किए जाएंगे।

एनएएचइपी से कृषि कॉलेज में ये हो रहे बदलाव
-कृषि कॉलेज में स्मार्ट क्लास रूम, भाषा प्रयोगशाला, विद्यार्थियों की बायोमैट्रिक अटेंडेंस सहित बदलाव हो रहे है। - कृषि यूनिवर्सिटी के 600 छात्रा-छात्राओं को ट्रेनिंग के तहत देश के प्रतिष्ठित संस्था, उद्योगों में 3 माह के प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा।
- चयनित 180 छात्र-छात्राओं को अमेरिका, जापान, चीन सहित अन्य देशों के प्रतितिष्ठ संस्थाओं में 3 माह के प्रशिक्षण के लिए भेजें जाएंगे।
-युनिवर्सिटी के पुराने विद्यार्थियों को बुलाकर कार्यक्रम आयोजित होंगे। जिससे वर्तमान विद्यार्थी मार्ग दर्शन मिल सकेगा।
-विदेशों के शैक्षणिक संस्थाओं से विशेषज्ञ, वैज्ञानिकों को लैक्चर देने भी बुलाया जाएगा।

प्रशिक्षण के लिए विद्यार्थियों का होगा चयन
को-प्रिंसिपल इनवेस्टिकेटर डॉ. दिनेश कुमार पालीवाल ने बताया कि एनएएचइपी में कॉलेज में स्नातक के विद्यार्थियों को शामिल किया जाएगा। ट्रेनिंग पर भेजने के लिए विद्यार्थियों की रूचि और अंको के आधार पर चयन होगा। विदेश 180 विद्यार्थी जाएंगे। जिसमें प्रत्येक कॉलेज से 30 से 40 विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा।

Show More
dharmendra diwan Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned