हादसा नहीं साजिश थी रेडिमेड दुकान की आगजनी

-पड़ोसी ने सुपारी देकर लगवाई थी दुकान में आग
-दुकान के बाहर कपड़ों के डिस्प्ले से अपनी दुकान ढकने पर था विवाद
-सीसीटीवी में कैद हुई आगजनी की घटना, पुलिस ने किया खुलासा

खंडवा.
स्टेशन रोड तिराहा स्थित रेडिमेड दुकान में 20 अगस्त की रात हुई आगजनी की घटना कोई दुर्घटना नहीं, बल्कि सोची समझी साजिश थी। पड़ोसी दुकानदार ने ही एक बदमाश को पांच हजार रुपए की सुपारी देकर घटना को अंजाम दिलाया था। पुलिस जांच के दौरान फारेंसिक एक्सपर्ट ने इसे किसी के द्वारा कारित घटना बताया था। सीसीटीवी फुटेज ने पूरे मामले का पर्दाफाश कर दिया। कोतवाली पुलिस ने आगजनी की घटना को अंजाम देने और सुपारी देने वाले दुकानदार को बुधवार गिरफ्तार कर मामले का खुलासा किया।
20 अगस्त की रात 10 बजे स्टेशन रोड तिराहा स्थित एके कलेक्शन रेडिमेड दुकान में आग लग गई थी। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस और फायर वाहन तुरंत मौके पर पहुंचे, लेकिन दुकान में रखा करीब 20 लाख का माल जलकर खाक हो गया था। फरियादी अमीन पिता यूसुफ कुरैशी की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने आगजनी की कायमी कर जांच शुरू की। शुरुआत में कयास लगाए जा रहे थे कि जल्दबाजी में दुकान बंद करने में शार्ट सर्किट के चलते घटना हुई है। बाद में फारेंसिक एक्सपर्ट ने जांच के दौरान पाया कि दुकान में आग शार्ट सर्किट से नहीं लगी थी, बल्कि पेट्रोल से लगाई गई थी। जिसके बाद एसपी द्वारा सीएसपी के निर्देशन में टीम गठित की गई। कोतवाली पुलिस द्वारा जब सीसीटीवी फुटेज देखे गए तो उसमें एक युवक संदिग्ध रूप से दुकान के आसपास दिख रहा था।
सीएसपी ललित गठरे ने बताया कि घटना दिनांक के समय और पूर्व में विभिन्न स्थानों पर लगे सीसीटीवी फुटेज देखे गए। जिसमें एक युवक माता चौक से एक पेट्रोल पंप, इंदिरा चौक, बस स्टेंड और रेलवे स्टेशन पर आता दिख रहा था। उक्त युवक ने घुटने के पास से फटी जिंस पहनी थी, पैरों में चप्पल नहीं थी और मुंह पर नया गमछा बांधा हुआ था। एसएन कॉलेज के पास युवक का गमछा नीचे होने से उसका थोड़ा सा हुलिया नजर आया था। उसी आधार पर माता चौक, राम नगर, इंदिरा चौक, चीरा खदान क्षेत्र में जांच की गई। मुखबीर की सूचना पर चीरा खदान क्षेत्र निवासी चंदन बरकने को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने घटना को अंजाम देना कबूल कर लिया।
पांच हजार लेकर लगाई आग
आरोपी चंदन ने बताया कि उसे माता चौक निवासी राजेश कटारे ने पांच हजार रुपए देकर उक्त दुकान में आग लगाने को कहा था। पुलिस ने राजेश कटारे को हिरासत में लेकर पूछताछ की। राजेश कटारे ने बताया कि उसकी एके कलेक्शन के पड़ोस में जूता चप्पल की दुकान है। रेडिमेड दुकान संचालक द्वारा दुकान के बाहर कपड़े टांगने से उसकी दुकान नहीं दिखती थी। जिसके चलते उसका रेडिमेड दुकानदार से विवाद भी हुआ था। गुस्से में आकर उसने दुकान जलाने की सुपारी दी थी। सीएसपी ने बताया कि घटना के खुलासे में कोतवाली टीआई बीएल मंडलोई, सउनि जितेंद्र चौहान, प्रआर हिफाजत अली, आरक्षक अमर प्रजापत, अमित यादव, सुनील सेंगर, अनिल बछाने एवं सीसीटीवी कैमरा आरक्षक दीपक एवं योगेश का सराहनीय योगदान रहा हैं।

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned