scriptThe national bird had to be eaten after killing the peacock | राष्ट्रीय पक्षी मोर को मारकर खाना पड़ा महंगा | Patrika News

राष्ट्रीय पक्षी मोर को मारकर खाना पड़ा महंगा

मोर का शिकार कर खाने वाले आरोपियों को तीन-तीन वर्ष का सश्रम कारावास
-जेएमएफसी न्यायालय ने 10-10 हजार का अर्थदंड भी किया

खंडवा

Published: December 23, 2021 10:23:45 pm

खंडवा.
न्यायालय न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी तहसील पुनासा न्यायालय द्वारा मोर का शिकार कर जंगल में बनाकर खाने वाले तीन आरोपियों को तीन-तीन वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनाई। न्यायालय ने आरोपी जाहिद पिता मुश्ताक निवासी मदनी, कोमल पिता शोभाराम निवासी मदनी व गोपाल पिता मदनसिंह, निवासी पुरनी को वन जीव संरक्षण अधिनियम की धारा 9/51 में 10-10 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया गया। अभियोजन की ओर से प्रकरण का संचालन सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी धीरेन्द्रसिंह चौहान ने किया।
अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी मो. जाहिद खान सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी ने बताया कि दिनांक 18 जनवरी 2013 की है। मुखबिर द्वारा जंगल में शिकार होने की सूचना पर वन परिक्षेत्र मूंदी के बीट धारीकोटला वन कक्ष क्रमांक 111 में वन क्षेत्राधिकारी मूंदी एवं वन अमला एवं नर्मदानगर थाने के पुलिस स्टॉफ द्वारा काकडराय क्षेत्र में 6 व्यक्ति आग जलाकर खाना बनाते हुए दिखे। अमले के घेराबंदी कर पास पहुंचने पर मौके पर 3 आरोपी पकड़े गए तथा 3 आरोपी फरार होने में सफल हो गए। मौके पर भगौने में पका हुआ मांस रखा मिला। घटना स्थल पर राष्ट्रीय पक्षी मोर के अधजले पंख, सिर, गले की थैली, मोर के दो पैर जो घुटने के पास से कटे हुये ताजे पाए गए। इसके साथ ही घटना स्थल पर शिकार के किलए उपयोग में ली गई सामग्री एवं अन्य सामग्री भी पायी गयी थी।
उक्त सभी सामग्री को जप्त कर एवं मोर के अवशेष एवं शिकार की सामग्री विधिवत जप्त की गई। मौके पर पकड़े गये आरोपियों ने पूछताछ करने पर उन्होंने अपना नाम जाहिद पिता मुश्ताक, कोमल पिता शोभाराम, गोपाल पिता मदन बताया अन्य तीन आरोपी फरार होने में सफल हो गये थे। उनके नाम चंदर पिता रणछोड़, इदरीश पिता जमील, फिरोज पिता याकूब होना बताया था। मौके पर जप्त मांस व शव परीक्षण तथा पशु चिकित्सक की सलाह पर एकत्रित मांस जांच के लिए सीनियर साइंटिस्ट भारतीय वन प्रणाली संस्थान देहरादून भिजवाया गया। जहां पर जप्तशुदा मांस मोर का ही है, इसकी पुष्टि फॉरेसिेक जांच रिपोर्ट में की गई थी।
राष्ट्रीय पक्षी मोर को मारकर खाना पड़ा महंगा
मोर का शिकार कर खाने वाले आरोपियों को तीन-तीन वर्ष का सश्रम कारावास-जेएमएफसी न्यायालय ने 10-10 हजार का अर्थदंड भी किया

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 5,760 नए मामले, संक्रमण दर 11.79%Republic Day 2022 parade guidelines: कोरोना की दोनों वैक्सीन ले चुके लोग ही इस बार परेड देखने जा सकेंगे, जानिए पूरी गाइडलाइन्सएमपी में तैयार हो रही सैंकड़ों फूड प्रोसेसिंग यूनिट, हजारों लोगों को मिलेगा कामकांग्रेस के तीन घोषित प्रत्याशी पार्टी छोड़ कर भागे, प्रियंका गांधी हुई हैरानDelhi Metro: गणतंत्र दिवस पर इन रूटों पर नहीं कर सकेंगे सफर, DMRC ने जारी की एडवाइजरीNational Voters' Day: पहली बार वोट देने वाले जानें अपने अधिकार और जिम्मेदारी के बारे मेंराज्य की तकदीर बदलने वाली योजनाएं केन्द्र में अटकीकोरोना में स्कूल हुए बंद तो बच्चों के घर-आंगन में जाकर पढ़ाया, गणतंत्र दिवस के दिन 36 शिक्षक होंगे सम्मानित, तीनों ब्लॉक से किया चयन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.