गुरुवार गुमाश्ता नियम का नहीं हुआ पालन, आधे से ज्यादा बाजार खुला

-चेम्बर ऑफ कॉमर्स ने व्यापारियों से किया था दुकानें बंद रखने का आह्वान
-शहर से ज्यादा ग्रामीण इलाकों में ज्यादा जागरूकता, रख रहे एक दिन लॉक डाउन

खंडवा.
कोरोना संक्रमण के चलते पहले लॉक डाउन और बाद में साप्ताहिक लॉक डाउन सभी खत्म हो चुके है। अनलॉक होते ही बाजार में भीड़ और कोविड वार्ड में रोजाना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। लॉक डाउन के पूर्व बाजार में गुमाश्ता के तहत गुरुवार साप्ताहिक अवकाश का नियम लागू था। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए चेंबर ऑफ कॉमर्स ने दोबारा इस व्यवस्था को शुरू करने का आह्वान किया था। चेंबर ने सभी दुकानदारों से अपील की थी कि थी कि गुरुवार को दुकानें बंद रखी जाए, लेकिन इसका कोई ज्यादा असर नहीं दिखा। गुरुवार को आधे से ज्यादा बाजार खुला रहा और चहल पहल भी रही।
गुरुवार बंद को लेकर चेंबर पदाधिकारियों का कहना है कि शासकीय तौर पर कोई नियम नहीं है कि बंद ही रखना है। चेंबर अध्यक्ष गुरमीतसिंघ उबेजा, सचिव सुनील बंसल, कोषाध्यक्ष गोवर्धन गोलानी ने बताया कि शहर के सभी दुकानदार चेंबर से नहीं जुड़े है, ये कुछ व्यापारियों की मांग थी कि रविवार या गुरुवार बंद रखा जाए। जिसके लिए हमने आह्वान किया था, लेकिन अधिकतर दुकानदारों तक शायद हमारा संदेश नहीं पहुंच पाया था। अगले सप्ताह संभवत: अधिकतर दुकानें बंद रहेगी। चेंबर का मानना है कि जब किसी राजनैतिक पार्टी, संगठन के आह्वान पर दुकानें बंद रख सकते है, प्रशासन की सख्ती पर दुकानें बंद हो सकती है तो अपने स्वयं के लिए क्यों नहीं एक दिन दुकान बंद रखी जाए। उल्लेखनीय है कि शहर की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों में एक दिवसीय लॉक डाउन ग्रामीण स्वेच्छा से कर रह रहे हैं।

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned