थाने में दिखाई नेतागिरी तो पुलिस ने जड़ा थप्पड़

मध्यप्रदेश के खंडवा में जनपद अध्यक्ष के देवर की बाइक रोकी। महिला अध्यक्ष थाने पहुंची तो हंगामा खड़ा कर दिया। एएसआई ने देवर को थप्पड़ जड़ दिया।

By: संजय दुबे

Published: 12 Nov 2017, 10:14 AM IST

खंडवा. कोतवाली थाने के सामने चालानी कार्रवाई के दौरान शनिवार रात करीब ८.४० बजे ट्रैफिक जवान ने छैगांवमाखन जनपद पंचायत अध्यक्ष के देवर की गाड़ी रोक ली। गाड़ी पर नंबर नहीं लिखा था। इसलिए थाने में खड़ी करा दी गई। यहां कागज दिखाने का बोला तो देवर हरेराम पिता आशाराम जगताप निवासी छैगांवमाखन ने मोबाइल पर बुलाने की बात कही।

फिर एएसआई ने जड़ दिया थप्पड़
इसी बीच कागज की बात को लेकर ट्रैफिक एएसआई सुरेश डावर और हरेराम के बीच कहासुनी हो गई। बात धक्का-मुक्की तक पहुंच गई। तभी हरेराम ने जप अध्यक्ष मंजूला जगताप को सूचना देकर थाने बुला लिया। हरेराम ने एएसआई डावर पर थप्पड़ मारने का आरोप लगाया है। इसी बात से खफा भाभी जप अध्यक्ष और बड़े भाई चिंताराम ने हंगामा शुरू कर दिया। एएसआई के खिलाफ कार्रवाई को लेकर अड़ गए। पुलिस को खूब खरी-खोटी सुनाई। रात करीब ९.५० बजे एएसपी महेंद्र तारणेकर थाने पहुंचे। यहां उन्होंने समझाइश देकर मामला शांत कराया और हरेराम से लिखित शिकायत आवेदन लेकर उन्हें रवाना किया।

शिकायत करने एसपी बंगले पहुंची अध्यक्ष
ट्रैफिक थाने में सुनवाई नहीं हुई तो जप अध्यक्ष मंजूला जगताप एसपी नवनीत भसीन से मामले में शिकायत करने बंगले पर पहुंच गई। हालांकि एसपी घर पर नहीं थे। इस पर फोन पर बात की और मामले की सूचना दी। जानकारी पर उन्होंने एएसपी तारणेकर को थाने भेजा।
ये बोले जिम्मेदार
पुलिस ने देवर को थप्पड़ मारा
है, जो गलत है। उस पुलिस वाले के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर आई हूं। कार्रवाई नहीं हुई तो रणनीति बनाकर विरोध करेंगे। मंजूला जगताप, जपं अध्यक्ष, छैगांवमाखन

गाड़ी पकडऩे के बाद छोड़ दी गई थी। कागज की बात को लेकर अभद्रता कर रहे थे। थप्पड़ मारने का आरोप गलत है। सुरेश डावर, एएसआई ट्रैफिक

गाड़ी छोडऩे के बाद भी थाने में मौजूद पुलिस अधिकारी व जवानों को वह नेतागिरी का रौब दिखाकर अभद्रता कर रहे थे। इसी बात पर एएसआई और उनके बीच धक्का-मुक्की हुई थी। संतोष कौल, डीएसपी, ट्रैफिक

बाइक सवार से लिखित आवेदन लिया है। मेडिकल कराएंगे। दोषी पाए जाने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
महेंद्र तारणेकर, एएसपी

 

संजय दुबे Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned