नहीं होती कार्रवाई इसलिए फलफूल रहे अपंजीकृत डॉक्टर

-पिछले 6 सालों में सिर्फ 32 पर बने प्रकरण, 29 अदालत में विचाराधीन
-अब तक तीन केस में हुई है बिना डिग्री के डॉक्टरों को सजा

खंडवा.
जिले में लंबे समय से अपंजीकृत डॉक्टरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने से हर गांव में बिना डिग्री के डॉक्टर मरीजों का इलाज कर रहे हैं। कोरोना काल में भी इन अपंजीकृत डॉक्टरों द्वारा इलाज किए जाने का मामला भी सामने आया है। मूंदी और खालवा क्षेत्र में तो इन डॉक्टर्स के पास इलाज करने वाले मरीज कोरोना पॉजिटिव भी निकले थे। इसके बाद भी जिले के ग्रामीण अंचल में इन अपंजीकृत डॉक्टर्स के खिलाफ कार्रावाई नहीं होने से इनका धंधा फलफूल रहा है।
आंकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो स्वास्थ्य विभाग के पास करीब 413 अपंजीकृत डॉक्टर्स की सूची है। इसमें बीइएमएस, बीमएपीसी और स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रशिक्षण के बाद बनाए गए जन स्वास्थ्य रक्षक भी शामिल है। इन डॉक्टर्स को कोर्ट से स्टे मिला होने से ये स्वास्थ विभाग में पंजीयन भी नहीं करा रहे हैं। इसके अलावा बड़ी संख्या में ऐसे भी डॉक्टर गांवों में इलाज कर रहे हैं, जिनके पास कोई डिग्री ही नहीं है। बिना डिग्री वाले फर्जी डॉक्टरों पर कार्रवाई के लिए समिति भी बनी हुई है, लेकिन कोरोना संक्रमण काल के बाद इन पर कार्रवाई न के बराबर हुई है।
एक साल में तीन को सजा
पिछले छह सालों में स्वास्थ्य विभाग ने सिर्फ 32 प्रकरण झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ बनाए है। इसमें से पिछले एक साल में तीन प्रकरणों में सजा हुई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा वर्ष 2014 में एक बंगाली डॉक्टर को कालमुखी में बिना किसी डिग्री के इलाज करते हुए पकड़ा था। इस मामले में हाल ही में कोर्ट ने बंगाली डॉक्टर को मप्र आयुर्विज्ञान परिषद अधिनियम की धारा 21 के उल्लंघन में धारा 24 के तहत एक साल की सजा सुनाई है। इसके पूर्व मूंदी और अमलपुरा में पकड़े गए बिना डिग्री के डॉक्टरों को तीन-तीन साल की सजा सुनाई गई थी। 29 प्रकरण फिलहाल विभिन्न अदालतों में विचाराधीन है।
ब्लॉक स्तरीय समिति करती कार्रवाई
अपंजीकृत और बिना डिग्री के मरीजों का इलाज करने वालों के खिलाफ समय समय पर कार्रवाई की जाती है। ब्लॉक स्तर पर तहसीलदार, बीएमओ और थाना प्रभारी की समिति बनी हुई है। ये टीम ही गांवों में जाकर जांच करती है।
डॉ. एनके सेठिया, जिला स्वास्थ्य अधिकारी

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned