scriptWhy did the girls come out riding on horses with a sword in their hand | क्यों हाथों में तलवार लेकर घोड़ों पर सवार होकर निकली युवतियां | Patrika News

क्यों हाथों में तलवार लेकर घोड़ों पर सवार होकर निकली युवतियां

मां हिंगलाज जयंती पर भावसार समाज ने किया आयोजन

खंडवा

Published: March 31, 2022 12:15:02 pm

खंडवा.
भावसार क्षत्रिय समाज के तत्वावधान में मां हिंगलाज के प्रकट उत्सव (हिंगलाज जयंती) पर बुधवार को चुनरी यात्रा निकाली। चुनरी यात्रा में हाथों में तलवार लिए अश्वों पर सवार होकर युवतियां शामिल हुईं। महिला मंडल ने चल समारोह में माता के गीतों पर गरबा नृत्य किया। मालीकुआं स्थित मां हिंगलाज देवी को चुनरी अर्पित कर पूजन-पाठ व आरती की। इसके बाद जसवाड़ी रोड स्थित हिंगलाज वाटिका में समाजजनों के लिए भंडारे का आयोजन भी किया।
हिंगलाज माता के प्रकट उत्सव पर कहारवाड़ी स्थित भावसार धर्मशाला से चुनरी यात्रा निकाली गई। जो बजरंग चौक, घंटाघर, बांबे बाजार, स्टेशन रोड, पार्वतीबाई धर्मशाला, तीन पुलिया होते हुए मालीकुआं स्थित हिंगलाज मंदिर पहुंची। यहां माता का पूजन-अर्चन कर आरती की गई। यहां माता को 11 मीटर लंबी चुनरी चढ़ाकर समाज के कल्याण की कामना की। शोभायात्रा में आकर्षण का केंद्र घोड़े व बग्गी रही। घोड़े पर गोपी जसवंतसिंह चौहान व अन्वेशा मनोज (नाना) भावसार सवार रहीं। मां हिंगलाज की तरह शृंगार सुहाना गोपाल (अंतिम) बंसोड़ ने किया। शोभायात्रा में महिलाओं ने भजन गाकर मां की आराधना और गीतों पर नृत्य किया। ढोल-ढमाकों के साथ समाजजन माता के जयकारे लगाते चल रहे थे। महिलाएं पीली साड़ी और पुरुष सफेद कुर्ता-पजामा धारण किए हुए थे। इस मौके पर समाज अध्यक्ष दीपक भावसार, सचिव हंसकुमार भावसार, कोषाध्यक्ष जसवंत भावसार, उपाध्यक्ष देवेश भावसार, सह-सचिव जगदीश भावसार, कीर्तिराज चौहान, महिला मंडल अध्यक्ष अध्यक्ष प्रज्ञा भावसार, सचिव कल्पना भावसार, कोषाध्यक्ष सरोज अंबेकर, उपाध्यक्ष शालिनी चौहान, सह-सचिव श्वेता भावसार सहित अन्य समाजजन मौजूद रहे।
कन्या पूजन के साथ हुआ भंडारे का आयोजन, शाम को हुई महाआरती
मां हिंगलाज जयंती पर मालीकुआं स्थित स्वयंभू हिंगलाज माता मंदिर पर बुधवार को धार्मिक अनुष्ठानों के साथ भंडारे का आयोजन हुआ। समिति के संजय शर्मा ने बताया कि मां हिंगलाज जयंती पर सुबह माता का अभिषेक कर विशेष शृंगार किया गया। साथ ही विश्व शांति एवं सभी के कल्याण के लिए हवन में श्रद्धालुओं द्वारा आहुति पेश की गई। तत्पश्चात भोग आरती के बाद कन्या पूजन कर कन्या भोज के साथ विशाल भंडारे का आयोजन हुआ। रात्रि में काकड़ आरती के पश्चात भजन संध्या का आयोजन किया गया।

क्यों हाथों में तलवार लेकर घोड़ों पर सवार होकर निकली युवतियां
चुनरी यात्रा में हाथों में तलवार लिए अश्वों पर सवार होकर युवतियां शामिल हुईं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

हैदराबाद : बीजेपी की बैठक का आज दूसरा दिन, पीएम मोदी करेंगे संबोधितNIA की टीम ने केमिस्ट की हत्या की जांच के लिए महाराष्ट्र के अमरावती का किया दौराभाजपा ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में 'अर्थव्यवस्था' और 'गरीब कल्याण' पर प्रस्ताव किया पारित, साथ ही की 'अग्निपथ योजना' की सराहनाUdaipur murder case: गुस्साए वकीलों ने कन्हैया के हत्यारों के जड़े थप्पड़, देखें वीडियोAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.