पत्नी की हैवानियत: क्राइम पेट्रोल देख रची साजिश, पति की हत्या कर शव को लगा दिया ठिकाने

-ग्राम बलखड़पुरा में मिले जले हुए मानव कंकाल मामले का पुलिस ने किया खुलासा-पति के शव को दो बार जमीन में दफनाया फिर लकड़ी के ढेर में जला दिया

By: Editorial Khandwa

Published: 20 Jun 2016, 04:28 PM IST


खंडवा. ग्राम बलखड़पुरा में मिले जले हुए मानव कंकाल अवशेष मामले में रविवार को पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया। इस अंधे कत्ल मामले में पत्नी ने ही अपने पति की हत्या कर उसके शव को दो बार जमीन में दफनाया और अंत में प्रेमी के साथ मिलकर शव को जला दिया।
किसी को संदेह न हो इसके लिए वह हर दूसरे दिन थाने पहुंचकर पति की हरखबर लिया करती थी। पति के नहीं मिलने की बात सुनकर वह पुलिस के सामने रोती रहती थी। मामले का खुलासा करते हुए एसपी डॉ. एमएस सिकरवार ने कहा कि आरोपी दुर्गा पति नाहरसिंह रोजाना क्राइम पेट्रोल सीरियल देखती थी।
क्राइम पेट्रोल से ही उसने आइडिया लिया और अपने प्रेमी के साथ मिलकर पति को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया। पुलिस ने हत्या के आरोप में दुर्गा और उसके प्रेमी सुनील पिता रमेश बलाही निवासी छैगांवमाखन को गिरफ्तार कर लिया है।
ऐसे दिया वारदात को अंजाम
पति नाहरसिंह शराब के नशे में दुर्गा से मारपीट करता था। उसे संदेह था कि उसकी पत्नी दुर्गा और सुनील के बीच अवैध संबंध है। एक दिन मृतक नहार मिल के ही कर्मचारी देवेंद्र को साथ घर ले गया और पत्नी से देवेंद्र के साथ संबंध बनाने की बात कही। दुर्गा ने इनकार कर दिया।
रोज-रोज की प्रताडऩाओं से परेशान दुर्गा ने प्रेमी सुनील और खुद के रास्ते से पति नाहर को हटाने की साजिश रची। 16 मई की रात करीब 8 बजे पति नशे में घर पहुंचा। दोनों के बीच विवाद हुआ। तभी दुर्गा ने सिलबट्टे से पति नाहर के सिर और गुप्तांग पर बार कर हत्या कर दी।
पहले जमीन में गाड़ा फिर जला दिया
पति की हत्या करने के बाद दुर्गा ने अपने प्रेमी सुनील को मोबाइल पर मामले की जानकारी दी। सुनील को घर बुलाया और दोनों ने घर के पीछे गड्ढा खोदा। इसके बाद दीवार में छेद किया। इसी छेद की जरिए शव बाहर निकाला और गड्ढे में दफना दिया। शव से ज्यादा दुर्गंध आने पर दोनों ने शव को जमीन से निकाला और दोंदवाड़ा निवासी छज्जू के खेत में दफना दिया।
इसी बीच छज्जू ने अपने खेत की जुताई शुरू कर दी। यह देख दुर्गा को लगा कि जुताई में यदि शव बाहर आ गया तो हकीकत सामने आ जाएगी। तभी उसने 13-14 जून की रात प्रेमी सुनील की मदद से शव को जमीन से फिर निकाला और पास बने लखन बलाही के खेत में रखी लकडिय़ों में जला दिया। शव जलाकर दोनों बाइक से छैगांवमाखन अपने घर लौट गए।
पुलिस ने ऐसे किया अंधे कत्ल का पर्दाफाश
पुलिस को घटनास्थल से जले हुए मानव कंकाल के अवशेष मिले। कंकाल के अवशेष सागर फॉरेंसिक लैब जांच के लिए भेजे गए। पुलिस के सामने इस मामले की गुत्थी सुलझाना एक चुनौती थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी ने पुलिस अधिकारियों की संयुक्त टीम गठित की और मामले की जांच में लगाई।
जांच में मृतक नाहर पिता शंभू निवासी बागदारी (चैनपुर) की गुमशुदगी सामने आई। पुलिस ने नाहरसिंह के परिजन को थाने बुलाया और जब्त किए गए कपड़े आदि उन्हें दिखाए। परिजन ने पुलिस से आरोपी दुर्गा और सुनील के बीच अवैध संबंध होने की बात कही। इसी बीच मृतक नाहर के मोबाइल की जांच में सुनील की सिम मृतक के मोबाइल में चलाई जाना सामने आया। दुर्गा और सुनील के खिलाफ सुराग मिलते ही पुलिस ने दोनों को हिरासत में लिया और सख्ती से पूछताछ की तो जुर्म कुबूल किया।
क्राइम पेट्रोल से लिया आइडिया
आरोपी दुर्गा तीसरी क्लास पढ़ी है। वह घर में रोजाना क्राइम पेट्रोल देखती थी। क्राइम पेट्रोल से ही आइडिया लेकर उसने खुद और प्रेमी सुनील के बीच रोड़ा बन रहे पति नाहर को हटाने का प्लान बनाया।
दुर्गा इतनी शातिर है कि उसने पति की हत्या कर एक माह तक शव को जमीन में दफनाकर रखा। किसी को कानों कान भनक तक नहीं लगने दी। दुर्गा के दो बच्चे भी है। पति की हत्या करने वाली दुर्गा के चेहरे न तो सिकन नजर आई और न ही अफसोस।
आरोपी सुनील की जुबानी: ...तो उसने कहा मैं प्यार करती हूं
आरोपी सुनील ने बताया कि मैं दुर्गा के पति नाहर के साथ अग्रवाल मिल में काम करता था। यहां रोजाना दुर्गा से मुलाकात होती थी। दुर्गा मुझे देकर हंसती थी। एक दिन मैंने उससे पूछा कि तुम मुझे देकर क्यों हंसती हो...तो उसने कहा मैं तुमे प्यार करती हूं। तभी से हम दोनों के बीच प्यार चल रहा था।
करीब डेढ साल से दोनों के बीच अवैध संबंध थे। घर आने-जाने में दिक्कत न हो इसके लिए उसने मुझे मुंह बोला भाई बना लिया था। इसी बीच दुर्गा ने पति नाहर की हत्या कर मुझे मोबाइल फोन पर घटना के बारे में बताया। घर आने को कहा, लेकिन मैं नहीं गया। मैं केवल फोन पर ही बात करता था। मैंने नाहर की हत्या करने मैं उसकी मदद नहीं की है।
टीम को दस हजार का इनाम
अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने वाली पुलिस टीम को एसपी डॉ. सिकरवार ने दस हजार रुपए के इनाम की घोषणा की है। इसटीम में एएसपी गोपाल खांडेल, सीएसपी शेषनारायण तिवारी, डीएसपी एसआर सेंगर, छैगांवमाखन थाना प्रभारी रामसिंह पटेल, उनि अर्चना चौहान, सउनि एसआर पाटीदार, पीके सांवले आदि ने संयुक्त कार्रवाई कर मामले की गुत्थी सुलझाई।

फोटो- पुलिस गिरफ्त में आरोपी मृतक की पत्नी दुर्गा और प्रेमी सुनील।
Show More
Editorial Khandwa
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned