scriptWomen became self-sufficient by making soap from goat's milk | जानिए कैसे बकरी के दूध से साबुन बनाकर आत्मनिर्भर बनीं महिलाएं | Patrika News

जानिए कैसे बकरी के दूध से साबुन बनाकर आत्मनिर्भर बनीं महिलाएं

कौशल भारत-कुशल भारत अभियान आजीविका को चार चांद लगा रही महिलाएं

खंडवा

Published: March 04, 2022 11:40:58 am

खंडवा. इन दिनों ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं द्वारा एक से बढ़कर एक सौन्दर्य साबुन तैयार किया जा रहा है। दरअसल कौशल भारत-कुशल भारत अभियान के तहत ये महिलाएं अपनी आजीविका में चार चाँद लगाने के साथ-साथ रूप-सौन्दर्य को निखारने का नया ककहरा सीख रही है। देश के प्रधानमंत्री द्वारा भारत को आत्मनिर्भर बनाने के साथ बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। महत्वपूर्ण रूप से पूरे देश में महिला स्व सहायता समूह बनाकर महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। खंडवा जिले में भी सैकड़ों की संख्या में महिला समूह हर क्षेत्र में कार्य रहे हैं। वहीं जावर महिला समूह द्वारा बकरी के दूध से उच्च क्वालिटी का साबुन बनाया जा रहा है। आपने मीना कुमारी से लेकर माधुरी दीक्षित तक जैसी अदाकारा को हर दौर में टीवी कलाकरों को सौन्दर्य निखारने वाले साबुन का प्रचार-प्रसार करते हुए देखा होगा। लेकिन इन तस्वीरों में आपको जो साबुन दिख रहा है उसे न माधुरी दीक्षित जानती है न ही मौसमी चटर्जी ये सब खंडवा के जावर क्षेत्र की ग्रामीण स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा तैयार किया गया ख़ास साबुन है। दरअसल कौशल भारत-कुशल भारत अभियान के तहत खंडवा जिला पंचायत सीईओ महेन्द्र घनघोरिया ने जावर की स्व सहायता ग्रुप को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जबलपुर से विशेष प्रशिक्षक बुलाकर इन ग्रामीण क्षेत्र की बहनों को साबुन तैयार करने का प्रशिक्षण दिलवाया। महिलाओं ने तन्मयता के साथ इस प्रशिक्षण में हर्बल साबुन बनाना सिखा। ये महिलाएं दिनभर अपने-अपने घरेलु कार्य करने के बाद साबुन बनाने का प्रशिक्षण लेकर एक से बढ़कर एक साबुन तैयार कर रही है। इन साबुन को बनाने के लिए किसी भी तरह के केमिकल का प्रयोग नही किया गया है। बल्कि नीम, आंवला, एलोवेरा, तुलसी, वनिला, आरेंज, तरबूज डेहलिया और बकरी के दूध को मिलाकर इसे तैयार किया जा रहा है। इन साबुन को देखने के बाद इसकी खुशबू और खूबसूरती दोनों ही आपको अपनी ओर आकर्षित करेगी। प्रशिक्षण ले रही समूह की महिलाओं को आत्म निर्भर बनाने के लिए केंद्र से लेकर प्रदेश सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। प्रशिक्षण पाने वाली महिलाएं अपने जीवन में आत्म निर्भरता की इस नई पाठशाला में प्रशिक्षण से काफी खुश है।
Women became self-sufficient by making soap from goat's milk
Women became self-sufficient by making soap from goat's milk

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

Bharatpur Road Accident: भीषण सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत, मचा हाहाकारLPG Price Hike Today: घरेलू गैस की कीमत 3.50 रुपए बढ़े, कमर्शियल सिलेंडर पर 8 रुपए का इजाफापोर्नोग्राफी मामले में व्यवसायी राज कुंद्रा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का भी मामला दर्जज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पहला बयान, केंद्रीय मंत्री भी बोलेज्ञानवापी मामले को लेकर अखिलेश यादव ने हिंदू देवी-देवताओं पर की विवादित टिप्पणीअमरीकी शेयर बाजार धड़ाम, मंदी की आशंका के बीच दो साल की सबसे बड़ी गिरावटIPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.