समुद्र की तरह गहरे बैकवाटर में डूबा युवक, बचाने के लिए पुलिस थाना प्रभारी ने लगा दी पानी में छलांग

संत सिंगाजी धाम के दूधतलाई के पास बने अस्थाई घाट की घटना, अस्पताल ले जाते समय युुवक ने तोड़ा दम

खंडवा. अधिकमास की अमावस्या पर संत सिंगाजी धाम दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु की नहाते समय बैकवाटर में डूबने से मौत हो गई। घटना शुक्रवार दोपहर करीब 12.30 बजे की है। जानकारी के अनुसार कमल पिता शेरू (38) निवासी अजंटी शुक्रवार को अधिकमास अमावस्या के चलते संत सिंगाजी के दर्शन करने पहुंचा था। यहां दूधतलाई के पास स्थित अस्थाई घाट पर भाई के साथ नहाने गया। नहाते समय गहरे पानी में जाने से कमल डूब गया। घटनाक्रम के देख मौके पर अफरा-तफरी मच गई। तभी सिंगाजी ड्यूटी पर तैनात मूंदी टीआइ अंतिम पावर को घटनाक्रम की खबर मिली। वह तत्काल मौके पर पहुंचे और वर्दी उतारकर पानी में कूद गए। पानी में गोते लगाकर कुछ ही देर में टीआइ पवार युवक को पानी से बाहर निकाल लाए। तत्काल गाड़ी से उसे मूंदी अस्पताल के लिए रवाना किया। लेकिन रास्ते में ही कमल ने दमतोड़ दिया। मामले में पुलिस ने मर्ग कायम किया है।
घाटों पर न बोट तैनात न गोताखोर थे मौजूद
संत सिंगाजी में अमावस्या के चलते हमेशा हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैंं। इस बार भी शुक्रवार सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। आलम यह था कि श्रद्धालु घाट के साथ खतरनाक स्थानों पर भी स्नान कर रहे थे। लेकिन उन्हें रोकने वाला कोई नहीं था। इतना ही नहीं संता सिंगाजी में हजारों की भीड़ उमडऩे के बाद भी घाटों में सुरक्षा के लिहाज से न तो बोट तैनात की गई और न ही गोताखोर। वहीं होम$गार्ड जवान भी नजर नहीं आए। स्थितियों को देखे तो सुरक्षा इंतजामों के अभाव में कमल की जान चली गई।

जितेंद्र तिवारी Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned