scriptBribery sought from farmer in the name of correcting acreage | रकबा सही करने के नाम पर किसान से मांगी रिश्वत, अब जेल | Patrika News

रकबा सही करने के नाम पर किसान से मांगी रिश्वत, अब जेल

रिश्वतखोर पटवारी को चार साल का सश्रम कारावास
-मंडलेश्वर क्षेत्र के नांद्रा का मामला, 18 अकटूबर 2015 का लोकायुक्त ने पकड़ा था, अब हुई सजा

खरगोन

Published: August 14, 2021 12:31:34 pm

खरगोन.
कहते हैं कि यदि आपने कोई गलत काम किया है तो इसकी सजा आपको जरूर मिलेगी। देर से ही सही लेकिन न्याय जरूर होता है। करीब छह साल पूर्व खसरा खतौनी में रकबा सही करने के नाम पर १५०० रुपए की रिश्वत मांगने वाले पटवारी रूपसिंह सिसौदिया को कोर्ट ने चार साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। यह फैसला हाल ही में मंडलेश्वर कोर्ट ने सुनाया है। आरोपी पटवारी पर १० हजार रुपए जुर्माना भी लगाया है। उक्त मामला मंडलेश्वर थाना क्षेत्र के ग्राम नांद्रा का है।
जिला लोक अभियोजन कार्यालय खरगोन के मीडिया प्रभारी एडीपीओ अमरेन्द्र कुमार तिवारी ने बताया 18 अक्टूबर 2015 को नांद्रा निवसी आवेदक रतन गहलोद ने मंडलेश्वर थाने पर एक लिखित शिकायत पेश की। इसमें उसने बताया कि पिता के नाम ग्राम नांद्रा में 5 बीघा कृषि भूमि थी। करीब एक वर्ष पहले 2 बीघा जमीन बेच दी थी। बाद में बैंक से कृषि लोन लेने के लिए जब कृषि भूमि की पावती एवं खसरा खतौनी की नकल लेकर बैंक गए तो इसमें रकबा तीन बीघा एवं पावती में रकबा 5 बीघा होने से बैंक ने पावती में सही रकबा दर्ज करवाने को कहा। इस पर आवेदक पटवारी रूपसिंह सिसोदिया के पास पहुंचे। रूपसिंह ने इस काम के लिए 1500 रुपए की मांग की। मामले की शिकायत लोकायुक्त में की गई। मांग प्रमाणित होने पर विधिवत ट्रेप करते हुए पटवारी को रंगेहाथों पकड़ा। जरूरी कार्रवाई के बाद अभियोग पत्र विशेष न्यायालय मण्डलेश्वर में पेश किया गया। यहां विशेष न्यायाधीश संजीव कुमार गुप्ता ने प्रकरण का विचारण कर आरोपी पटवारी रूपसिंह सिसोदिया को दोषी पाते हुए 4 वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी प्रकाश सोलंकी विशेष लोक अभियोजक मण्डलेश्वर द्वारा की गई।
Bribery sought from farmer in the name of correcting acreage
मंडलेश्वर क्षेत्र के नांद्रा का मामला

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.