नशे के लिए करने लगे चोरी, तीन बदमाश चड़े पुलिस के हत्थे

साढ़े पांच किलो चांदी के आभूषण किए बरामद, दो महीने पूर्व बिस्टान नाका क्षेत्र में की थी वारदात

खरगोन.
शहर में चोरी की लगातार हो रही वारदातों से आमजन में खौफ का माहौल है। शराब सहित नशे की लत के चलते कई बदमाश दुकानों के ताले चटकाने के साथ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। ऐसे ही तीन बदमाश कोतवाली पुलिस के हाथ चढ़े है। जिनसे साढ़े पांच किलो ग्राम चांदी के आभूषण बरामद हुए हैं। चोरों के पकडऩे जाने से पुलिस सहित आमजन ने भी राहत की सांस ली।
कोतवाली टीआई ललितसिंह डागुर ने मुताबिक 7 नवंबर 2019 को बिस्टान नाका स्थित इशिका ज्वलेर्स पर चोरी की वारदात हुई थी। आरोपी दुकान का ताला तोड़ चांदी के पायजेब, बिछुड़ी, मंगलसूत्र, चेन, पोची, छनिए, कंडोरे, क्लिप, अंगूठी, सिक्के, आकंडे, कान के बाले, चुडिय़ां आदि चुराकर भाग गए थे। दूसरे दिनदुकान संचालक व फरियादी मनोज पिता नरेंद्र महाजन (27) निवासी अवनीग्राम कॉलोनी द्वारा थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई थीं। इसके बाद बदमाशों को पकडऩे के लिए पुलिस की एक टीम गठित की गई। पिछले दिनों उपनिरीक्षक करणराजसिंह जोधा को सूचना मिली थी कि बावड़ी बस स्टैंड पर एक व्यक्ति चांदी के आभूषण लेकर बेचने की फिराक में घुम रहा है। जिसे पकडऩे पर पूछताछ की गई, तो आरोपी ने खुद का नाम संजू पिता रमेश गांगले निवासी आनंदनगर बताया। पुलिस ने उससे चांदी के आभूषणों को लेकर जानकारी ली, तो वह इधर-उधर की बातें करने लगे। सख्ती से पूछने पर आरोपी टूट गया और उसने बिस्टान नाका क्षेत्र में ज्वलेरी की दुकान पर चोरी की बात कबूली। यहां वारदात में उसके साथ दो साथी अल्केश पिता मनोहर वर्मा एवं शंकर पिता किशन वर्मा निवासी आनंद नगर भी थे। तीनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर चोरी का माल बरामद किया। पूर्व में आरोपितों ने बीटीआई रोड स्थित शासकीय प्राथमिक विद्यालय क्र. 5 में घुसकर गैस टंकी चुराई थी।

दुष्कर्म के मामले में आजीवन कारावास
पुलिस कार्रवाई में पकड़े गया आरोपी संजू पर कई अपराध दर्ज है। पुलिस के मुताबिक 2013 में दुष्कर्म के आरोप में न्यायालय उसे आजीवन कारावास की सजा सुना चुकी है। जमानत पर जेल से छुटते ही उसने चोरी करना शुरू कर दी। तीनों आरोपी नशे के आदि होकर वारदातों को अंजाम दे रहे थे। पुलिस द्वारा रिमांड लेकर पूछताछ की जा रही है। आरोपितों को पकडऩे में टीआई डागुर के साथ ही उपनिरीक्षक करणराज जोधा, आरक्षक हेमंत, विरेंद्र, संतोष शुक्ला आदि की भूमिका रही।

हेमंत जाट Bureau Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned