वनांचल में झोलाछाप चिकित्सक कर रहे मरीजों की जान से खिलवाड़

स्वास्थ्य विभाग कर रहा दिखावे की कार्रवाई

खरगोन. भगवानपुरा वनांचल में झोलाछाप चिकित्सकों का बोलबाला है। पैसे की लालच में आए दिन मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। लंबे समय से क्षेत्र में हर जगह फर्जी चिकित्सक जमे हुए हंै, जिसमें अधिकतर बंगाली हैं। इन चिकित्सकों के पास न तो डिग्री है न इन्हें मेडिसिन की सही जानकारी। पूर्व में भी फर्जी चिकित्सकों के इलाज से मरीजों को अपनी जान गवानी पड़ी थी ।

इन ग्रामों में खुलेआम झोलाछाप चिकित्सक कर रहे इलाज
वनांचल के ग्राम पिपलझोपा, सिरवेल, काबरी, मोहना, गढ़ी, मोगरगांव, दाउदखेड़ी, सरवर, देवला, भग्यापुर, सामरपाट, धूलकोट आदि गांवों में झोलाछाप चिकित्सकों द्वारा मरीजों का इलाज किया जा रहा है । ये झोलाछाप चिकित्सक प्रत्येक मरीज से इंजेक्शन लगाने के 50 से 60 रुपए लेते हैं वहीं स्लाइन बॉटल लगाने के 250 से 300 रुपए ले रहे हैं। साथ ही मेडिसिन भी स्वयं ही देते हैं। ऐसे में गरीबों को झोलाछाप चिकित्सक लूटने का काम कर रहे हैं । यह गोरखधंधा बीएमओ चेतन कलमे की अनदेखी में फलफूल रहा है इस ओर स्वास्थ्य विभाग का भी ध्यान नहीं है। ग्रामीणों ने बताया कि वनांचल में फैले झोलाछाप चिकित्सकों पर सिर्फ दिखावटी कार्रवाई की जाती है। आजतक इनपर कोई बड़ी कार्रवाई नहीं की गई, जिससे फर्जी चिकित्सकों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। वे बेखौफ होकर मरीजों की जान दांव पर लगा रहे हैं।

घर में बना दिया अस्पताल
क्षेत्र में कई जगहों पर फर्जी चिकित्सकों ने अपने घरों को ही अस्पताल बना दिया है। खटिया व पलंग पर मरीजों को लिटाकर इलाज कर रहे हैं। प्रत्येक झोलाछाप 20 से 30 मरीजों का इलाज प्रतिदिन करते हैं साथ ही अधिकतर झोलाछाप चिकित्सक सरकारी अस्पताल के चिकित्सकों की तरह रोजाना जिला मुख्यालय से आना-जाना करते हैं।

अभी भी झोलाछाप चिकित्सकों पर कार्रवाई जारी है और आगे भी जारी रहेगी।
-चेतन कलमे, बीएमओ भगवानपुरा

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned