Protest - कपास और मिर्च के खराब हुए पौधे लेकर तहसील पहुंचे किसान

समस्याओं को लेकर सौंपा ज्ञापन, कहा कर्ज माफी में छूटे किसानों को भी मिले लाभ

 

By: tarunendra chauhan

Updated: 16 Sep 2020, 02:01 PM IST

खरगोन. भारतीय किसान संघ ब्लॉक इकाई ने मंगलवार को क्षेत्र के किसानों की समस्याओं को लेकर 34 सूत्रीय मांगों को लेकर तहसीलदार मनोज चौहान को ज्ञापन सौंपा। किसान अपने साथ खेतों में खराब हुए कपास और मिर्च के पौधे लेकर पहुंचे थे। इन्हें दिखाते हुए नारेबाजी की और जल्द मुआवजा देने की बात पूरजोर तरीके से उठाई। बिस्टान उदवहन सिंचाई परियोजना का पूरा काम 2019 मे होना था। अभी तक योजना अधूरी पड़ी है, इसे जल्द शुरू किया जाए ताकि किसानों को सिंचाई योजना के तहत पानी मिल सके।

किसान सम्मान निधि की राशि कई किसानों के खाते में जमा नहीं हुई है। तहसील में त्रुटि सुधार के लिए शिविर लगाकर किसानों का समाधान किया जाए। फसलों का तत्काल सर्वे करवाकर उन्हें उचित मुआवजा मिले कपिलधारा कुओं पर योजना अनुसार नि:शुल्क कनेक्शन का कार्य शीघ्र शुरू होना चाहिए एवं प्रत्येक पंचायत स्तर वर्षा मापी यंत्र लगाया जाए। जिला उपाध्यक्ष भोला पाटील, ब्लॉक अध्यक्ष पठानसिंह, उपाध्यक्ष गोविंद, मंत्री संजय मराठे सहित सैकड़ों किसान शामिल हुए।

सिंचाई के लिए किसानों ने 14 घंटे थ्री फेस बिजली देने सहित रबी सजीन में पर्याप्त खाद की आपूर्ति की मांग को लेकर तहसीलदार राधेश्याम पाटीदार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में किसान कर्ज माफी, अतिवृष्टि से हुई फसल नुकसान की भरपाई और मक्का व सोयाबीन की समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू करने की मांग भी रखी। जिला मंत्री सदाशिव पाटीदार ने बताया कि खरगोन जिले की गोगावां एवं खरगोन तहसील में 50 हजार से लेकर 1 लाख तक कि ऋण माफी नहीं की गई हैं। अत: शीघ्र इन दोनों तहसीलों की भी ऋण माफी की जाए। किसानों के 2 लाख तक कर्ज माफी एवं पिछले वर्ष अतिवृष्टि से फसल नुकसान की बची 75 प्रतिशत राशि किसानों के खाते में डाली जाए एवं मिर्च वायरस से खराब फसलों का बीज कंपनियों पर कार्रवाई की जाए। महामंत्री दिनेश पाटीदार, तहसील अध्यक्ष राधेश्याम सोलंकी, सचिव अर्जुन पटेल, कैलाश कुशवाह, विनोद गौड़, नरेंद्र चौहान आदि उपस्थित थे।

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned