scriptHere the officers kept the public in the dark | अफसरों ने जनता को रखा अंधेरे में, कहते रहे शहर में लगे हैं सीसीटीवी कैमरे, असलियत यह कि हो गए चोरी | Patrika News

अफसरों ने जनता को रखा अंधेरे में, कहते रहे शहर में लगे हैं सीसीटीवी कैमरे, असलियत यह कि हो गए चोरी

यह कैसी सुरक्षा : 2015 में हुई हिंसा के बाद शहर में लगाए 70 कैमरे, 40 खराब, 30 गायब, अभी फिर हुआ उपद्रव तो याद आई सुरक्षा, 121 नए लगेंगे

खरगोन

Published: April 27, 2022 07:57:33 pm

खरगोन.
वर्ष 2015 से दो लाख आबादी वाला शहर इस भ्रम था कि शहर सीसीटीवी कैमरे की जद में है। हर अपराध तीसरी आंख में कैद हो रही है लेकिन हकीकत यह नहीं। दरअसल नगरपालिका ने वर्ष 2015 में हुए उपद्रव के बाद शहर में 70 कैमरे लगाए। इसके बाद लगातार प्रचार प्रसार हुआ कि आप सुरक्षित है क्योंकि यहां कैमरे लगे है। जबकि असलियत यह है कि 30 कैमरे चोरी हो चुके हैं और 40 की हालत ऐसी हो गई है कि वह सुधर भी नहीं सकते। हाल ही में शहर में हिंसा हुई तो नपा की पोल खुली। अब फिर से शहर में 121 कैमरे लगाए जा रहे हैं।
नपा की सीसीटीवी कैमरा प्रभारी शिवानी पाटीदार ने बताया ७० कैमरे लगाए गए थे, लेकिन मेंटेनेंस के अभाव में कुछ खराब हो गए हैं। अब नया टैंडर हुआ है तो ३६ पाइंट चिन्हित कर १२१ कैमरे लगाने का काम शुरू किया है। इस काम पर ६४ लाख रुपए खर्च किए जाएंगे।
Here the officers kept the public in the dark
खरगोन. शहर में फिर से 121 कैमरे लगेंगे। इसका काम शुरू हो गया है।
खराब कैमरों को पहले ही निकाला गया
जानकारी के अनुसार १.६० लाख लाख से ज्यादा जनसंख्या की सुरक्षा के लिए नगर पालिका ने 70 सीसीटीवी कैमरे लगाए। लेकिन बंद हुए अरसा बित गया। आधे से ज्यादा कैमरे पहले ही निकाले जा चुके हैं। फिलहाल बिस्टान नाका क्षेत्र में सीसीटीवी कैमरा लगा है, वह भी पुलिस विभाग का है। इसके अलावा वहां से लेकर बस तक कोई सरकारी कैमरा नहीं है।
बस स्टैंड पर जरूरी, लेकिन किसी ने नहीं की चिंता
बस स्टैंड व्यस्त इलाका है। यहां पूर्व में भी बस एजेंटों में विवाद हुए। हथियार तक चले। इसके अलावा रात में यात्री व भिक्षुक लोग सोते हैं। असामाजिक तत्व चोरी सहित मारपीट व अन्य वारदात करते हैं। इसके बावजूद यहां कैमरे नहीं लगाए हैं। कुछ समय पहले यहां सुविधा थी, लेकिन कैमरे खराब हुए तो निकाल लिए गए।
खराब कैमरे तक नहीं मिले
जानकारी के अनुसार जब खराब कैमरों को बदलने के लिए नपा ने सर्वे कराया तो ३० कैमरे मिले ही नहीं। कहां गए, कौन ले गया इसका अता-पता नहीं है। चोरी की आशंका है। इस मामले में नपा स्तर पर कार्रवाई जा रही है।
पुलिस के 120 सीसीटीवी चालू
पुलिस विभाग ने शहर में 120 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं, सभी चालू हैं। इन कैमरों का मेंटेनेंस समय-समय पर किया जाता रहा है। रोजाना कैमरों की अपडेट जानकारी कंट्रोल रूम में दर्ज की जा रही है, इसलिए ये कैमरे खराब नहीं हुए।
121 कैमरों में यह विशेषता
नपा से मिली जानकारी के अनुसार 121 कैमरों में से 14 विशेष हैं। इनके जरिए मार्ग से गुजरने वाले वाहनों की नंबर प्लेट तक को डिटेक्ट करके इंट्री होगी। 10 कैमरे 360 डिग्री पर घूमकर रिकॉर्ड करेंगे। 97 कैमरे वेरिफॉकल आईपी होंगे। जो सामने से गुजरने वालों को रिकॉर्ड कर सकेंगे।
लगाए जा रहे 121 कैमरे
-सुरक्षा की दृष्टि से नगरपालिका द्वारा शहर में 121 कैमरे लगाए जाएंगे। इसका काम शुरू हो गया है। समय-समय पर इनका मेंटेनेंस भी होगा। ७० कैमरे में पूर्व में लगाए थे, इसमें ३० मिले ही नहीं। ४० कैमरे सुधरने योग्य नहीं है। -प्रियंका पटेल, सीएमओ, खरगोन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल'इज ऑफ डूइंग बिजनेस' के मामले में 7 राज्यों ने किया बढ़िया प्रदर्शन, जानें किस राज्य ने हासिल किया पहला रैंक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.