दस लाख की अवैध शराब पकड़ी, आरोपी नहीं आए हाथ

आबकारी अमले के पहुंचने से पूर्व शराब माफियाओं तक पहुंच गई सूचना

By: tarunendra chauhan

Published: 07 Sep 2020, 07:30 PM IST

खरगोन. जिले में अवैध शराब का कारोबार गांवों तक अपनी जड़े जमा चुका है। आबकारी अमले द्वारा लगातार धरकपड़ की जा रही है, लेकिन शराब निर्माण और बेचने में कोई कमी नहीं आई है। शनिवार को आबकारी टीम ने कसरावद क्षेत्र के भीलगांव, अहिल्यापुरा, मिर्जापुर और मंडलेश्वर क्षेत्र में सोमाखेड़ी व गुलाब में एक साथ दबिश देकर करीब दस लाख रुपए की अवैध शराब पकड़ी। इस कार्रवाई के लिए अमला बंदूकों से लैस होकर पहुंचा। लेकिन हर बार की तरह कार्रवाई की सूचना शराब माफियाओं को पहले ही लग गई थी, इसलिए एक भी आरोपी हाथ नहीं आया।

सहायक जिला आबकारी अधिकारी आरएस राय ने बताया कि भीलगांव के अलावा सोमाखेड़ी में कुछ परिवार तो पीढिय़ों से शराब बनाकर बेचने का काम कर रहे हैं। पिछले महीने भी भीलगांव से पांच आरोपितों को पकड़ा, जो अभी तक जेल में बंद है। राय ने बताया कि विभाग द्वारा कई बार इन जगह पर दबिश देकर आरोपितों को पकडऩे के साथ शराब की भट्यिों को नष्ट किया गया। भीलगांव में 15 और सोमाखेड़ी में सौ परिवारों का एक पूरा मोहल्ला है, जो कच्ची शराब बनाने में लिप्त है। यह लोग स्थान बदलकर शराब बनाते और बेचते हैं। शनिवार को महेश्वर वृत प्रभारी मोहनलाल भायल एवं देवराज नगीना आबकारी उपनिरीक्षक की टीम द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों में दबिश दी गई। इस दौरान 460 लीटर हाथ भट्टी शराब एवं 15000 किलोग्राम महुआ लहान मौके पर नष्ट किया गया। इसकी बाजार मूल्य लगभग 9,96,000 रुपए हैं। आबकारी अमले को हमले का डर था। इसलिए पुलिस की भी मदद ली गई। करीब 18 गनमेन (बंदूकधारी) पुलिसकर्मियों को साथ लेकर आबकारी टीम ने दबिश दी।

अलग-अलग टीमों ने शनिवार को दबिश में दस लाख की अवैध शराब व महुआ लहान जब्त की। सही है कि कोई आरोपी पकड़ा नहीं गया। शायद शराब तस्करों तक सूचना पहले पहुंच चुकी थी। कारण पता लगा रहे हैं।
आरएस राय, सहायक आबकारी अधिकारी खरगोन

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned