script गरज-चमक के साथ चली धूलभरी आंधी, एक इंच से अधिक बारिश, मौसम में घुली ठंडक | Impact of Western Disturbance visible on weather, dense clouds remaine | Patrika News

गरज-चमक के साथ चली धूलभरी आंधी, एक इंच से अधिक बारिश, मौसम में घुली ठंडक

locationखरगोनPublished: Nov 26, 2023 07:41:04 pm

Submitted by:

Amit Bhatore

पश्चिम विक्षोभ का दिखाई दिया मौसम में असर, दिनभर छाए रहे घने बादल

बारिश के बाद मौसम खुशनुमा हो गया।
गरज-चमक के साथ चली धूलभरी आंधी, एक इंच से अधिक बारिश, मौसम में घुली ठंडक
गरज-चमक के साथ चली धूलभरी आंधी, एक इंच से अधिक बारिश, मौसम में घुली ठंडक

-पश्चिम विक्षोभ का दिखाई दिया मौसम में असर, दिनभर छाए रहे घने बादल


खरगोन. अंचल में मौसम ने एक बार फिर करवट बदली है। रविवार को दिनभर बादल छाए रहे। दोपहर बाद धूल भरी आंधी चली। गरज-चमक के साथ बारिश हुई। दोपहर दो बजे के बाद घने बादल होने से शाम का एहसास होने लगा था। दोपहर बाद हुई बारिश के बाद मौसम में ठंडक घुल गई। तहसील कार्यालय स्थित मौसम वैधशाला के अनुसार रविवार को अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि शाम पांच बजे तक 23.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी। शाम पांच बजे के बाद देर शाम तक बारिश का सिलिसला बना रहा। इस लिहाज से करीब एक इंच से अधिक बारिश दर्ज की गई। मौसम में बदलाव का असर जहां दिन-रात के तापमान में पर पड़ रहा है तो वही स्वास्थ्य पर भी विपरित असर हो रहा है।
पश्चिमी विक्षोभ के चलते हुई बारिश

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अलग-अलग स्थानों पर सक्रिय तीन मौसम प्रणालियों के असर से रविवार को मौसम का मिजाज बदला। वर्तमान में एक तीव्र आवृत्ति वाला पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान और उसके आसपास बना हुआ है। दक्षिण-पूर्वी एवं उससे लगे दक्षिण-पश्चिमी अरब सागर में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर उत्तरी महाराष्ट्र तक एक द्रोणिका बनी हुई है। अरब सागर से महाराष्ट्र तक बनी द्रोणिका के प्रभाव से विपरीत दिशाओं की हवा के संयोजन की स्थिति बनने जा रही है। हवाओं के साथ अरब सागर से नमी भी आने लगी है। इस वजह से मौसम के मिजाज में बदलाव हो रहा है। सोमवार को भी मौसम का मिजाज इसी तरह बना रह सकता है।
बारिश होने पर फसलों को मिलेगा लाभ

आसमान में बादल छाने से मावठे की बारिश होने के आसार है। इससे फसलों को इसका काफी लाभ मिलेगा। गेहूं, चना सहित हरे चारे की फसलों को अब पानी की अधिक आवश्यकता है, ऐसे में बारिश होती है तो फसलों को लाभ मिलेगा। इसके बाद फसलों में तेजी से फैलाव होगा।
स्वास्थ्य पर पड़ रहा विपरीत प्रभाव

मौसम में बदलाव के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर इसका विपरीत असर पड़ रहा है। जिला अस्पताल सहित निजी क्लिनिकों में भी लगातार खांसी, जुकाम, बुखार व बुजुर्गों के हाथ पैर दर्द होने की शिकायतें सामने आ रही है। अस्पताल में हर रोज करीब एक हजार मरीज जांच करवाने के लिए आ रहे हैं। ज्यादातर लोग सर्दी- जुकाम कारण प्रभावित हो रहे हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो