ब्लेक में बिक रही खाद, यूरिया मांगने पर मिले पुलिस के डंडे

ब्लेक में बिक रही खाद

By: deepak deewan

Published: 03 Dec 2019, 04:56 PM IST

खरगोन. कांग्रेस की कमलनाथ सरकार कृषि और किसान कल्याण के मामले में नाकाम और निकम्मी साबित हुई है। मुख्यमंत्री, मंत्रियों से लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों से किए कर्जमाफी के वादों व उनकी ज्वलंत समस्याओं को भूलकर तबादला उद्योग में व्यस्त हैं। भारतीय जनता पार्टी इस किसान विरोधी कमलनाथ सरकार के विरुद्ध आंदोलन कर उसे अपना वादा निभाने के लिए मजबूर करेगी। सोमवार को यह बात भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष सुदर्शन गुप्ता ने पार्टी कार्यालय पर वार्ता में कही।

गुप्ता ने कमलनाथ सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कांग्रेस सरकार एक वर्ष बाद भी कर्जमाफी का वचन पूरा नहीं कर पाई है। करीब 25 प्रतिशत किसानों का कर्ज माफ कर कमलनाथ निश्चिंत होकर बैठ गए हैं, जबकि तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने विधानसभा चुनाव की सभाओं में अंगुलियों पर दिन गिनते हुए 10 दिन में सभी किसानों का दो लाख रुपए तक का सहकारी व राष्ट्रीयकृत बैंकों का चालू एवं कालातीत कर्ज माफ करने का वादा किया था। सरकार बनने के 11 माह बाद भी किसानों का पूरा कर्ज माफ नहीं हुआ और न ही मुख्यमंत्री बदले गए। इस दौरान पूर्व सीसीबी अध्यक्ष रणजीतसिंह डंडीर, जिला उपाध्यक्ष लक्ष्मण इंगले, जिला मंत्री दिलीप जोशी, कार्यालय मंत्री हेमराजसिंह पाटीदार, पूर्व जिला मीडिया प्रभारी मोहन जायसवाल, महापौर परिषद सदस्य इंदौर अश्विनी शुक्ला, भाजपा जिला मीडिया प्रभारी प्रकाश भावसार मौजूद थे।


यूरिया मांगने पर पुलिस के डंडे
गुप्ता ने यूरिया संकट के लिए कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा आज यूरिया मांगने पर किसानों को पुलिस के डंडे मिल रहे हैं। किसान ब्लैक में यूरिया खरीदने पर मजबूर हैं। कांग्रेस सरकार करप्शन, कालाबाजारी और कुशासन का प्रतीक बनकर किसानों के संकट का कारण बन गई है।


किसान की बीमा राशि कर्ज में जमा की
पूर्व सीसीबी अध्यक्ष रणजीतसिंह डंडीर ने बताया आठ माह पहले कसरावद तहसील में बैंक की बामंदी शाखा अंतर्गत बलकवाड़ा सेवा सहकारी समिति के रामपुरा निवासी ऋणी किसान फुदिया कास्या भिलाला की आकस्मिक मृत्यु हो गई थी। उसे अब तक ऋणमाफी का लाभ नहीं मिला है। मृत्यु के बाद समिति के समूह बीमा के रूप में उसे 70 हजार रुपए स्वीकृत हुए। सहकारी समिति ने किसान पर 70 हजार 339 रुपए का कर्ज बताकर बीमा राशि के 70 हजार रुपए उसके ऋण खाते में जमा कर लिए। परिजन के अनुसार मृतक किसान पर अब भी 339 रुपए कर्ज शेष है। डंडीर ने उक्त धोखाधड़ी पर कांग्रेस को घेरते हुए गरीब किसान परिवार को कर्जमाफी का लाभ देने व सभी किसानों से किया वादा निभाने की मांग की है।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned