खरगोन सहित जिले की पांच निकायों में पूरा होने जा रहा परिषद का कार्यकाल, अब प्रशासक के हाथ में होगी कमान

छह दिसंबर को खत्म हो खरगोन नगर पालिका का कार्यकाल, इसी सप्ताह में सनावद, बड़वाह, करही और कसरावद में अध्यक्ष की कुर्सी हो रही खाली

खरगोन.
नगर पालिका में अध्यक्ष सहित पार्षदों के पांच साल का कार्यकाल खत्म होने जा रहा है। इसमें सोमवार का दिन खरगोन में नगर सरकार का आखिरी दिन होगा। 7 जनवरी 2015 को अध्यक्ष के रूप में विपिन गौर सहित 33 पार्षदों ने अपना पदभार ग्रहण किया था। इस हिसाब से यहां छह जनवरी को परिषद का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है। जिले के बड़वाह, सनावद नगर पालिका और करही तथा कसरावद में भी परिषद का यह अंतिम सप्ताह चल रहा है। जहां अध्यक्ष की कुर्सी खाली होने के बाद कमान अब प्रशासक संभालेंगे। सनावद में 8 जनवरी, करही और कसरावद में 10 तथा बड़वाह नगर पालिका में 11 जनवरी को अध्यक्ष व पार्षदों का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है। उल्लेखनीय है कि जिले में तीन नगर पालिका सहित पांच नगरीय निकाय है। इनमें महेश्वर, मंडलेश्वर और भीकनगांव परिषद के चुनाव को अभी दो से ढाई साल ही हुए है। इसलिए यहां परिषद कार्य करती रहेगी। बाकी जगह परिषद का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है।

1914 में हुई थी स्थापना, 54 अध्यक्ष व 5 बार प्रशासक काबिज
नगर पालिका खरगोन की स्थापना ब्रिटिश काल के समय सन् 1914 मेंं हुई थीं। तब से लेकर अब तक 54 बार अध्यक्ष व 5 बार प्रशासक काबिज रहे। वर्तमान अध्यक्ष विपिन गौर के साथ भी एक संयोग जुड़ा है। 2007 में अध्यक्ष चुने गए थे। जिनके हटने के एक सितंबर 2013 से 7 जनवरी 2015 तक (डेढ़ साल) प्रशासक के रूप में तत्कालीन अपर कलेक्टर नरेंद्र सूर्यवंशी काबिज रहे। इस बार भी गौर ही अध्यक्ष है और उनका कार्यकाल पूरा होने के बाद फिर से प्रशासक के हाथों में नपा की कमान होगी।

सवा लाख की आबादी, पानी को तरसी
पिछले चुनाव में सत्तापक्ष द्वारा कई चुनावी घोषणाएं की थीं, जो पांच साल बाद भी पूरी नहीं हुई। प्रमुख घोषणा में चौबीस घंटे पानी देने का वादा शामिल था। सवा लाख की आबादी तक यह पानी नहीं पहुंच पाया। हालांकि शहर में 114 करोड़ की जलावर्धन योजना के तहत काम जारी है। लेकिन पर्याप्त पानी के लिए लोगों को अभी आगे इंतजार करना पड़ेगा।

पति के हटने के बाद पत्नी ने संभाला काम
सनावद नगर पालिका के पांच साल का कार्यकाल काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा। यहां 2015 में अध्यक्ष के रूप में नरेंद्र ऊर्फ लाली शर्मा चुने गए थे। सनावद के ही एक बिल्डर द्वारा दुकानों के निर्माण की स्वीकृति के बदले रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए लोकायुक्त को शिकायत की गई थी। लोकायुक्त ने लाली शर्मा को ट्रेस किया। जिसके चलते उन्हें कुर्सी से हाथ धोना पड़ा। 8 अगस्त 2017 में हुए उपचुनाव में शर्मा के स्थान पर पत्नी मंजूला शर्मा चुनाव जीतकर अध्यक्ष की कुर्सी पर काबिज हुई।

जनता की अदालत में दो बार अग्नि परीक्षा
करही-पाड्ल्या परिषद में पहली बार हुए चुनाव में महिला के रूप में आशा प्रेम वांसुरे अध्यक्ष चुनी गई थी। लेकिन पूरे कार्यकाल में पार्षद उनके कार्य से असंतुष्ट नजर आए। इसलिए अध्यक्ष को एक नहीं दो बार अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ा। दो साल पूर्व भाजपा और कांग्रेस के पार्षद मिलकर अध्यक्ष केे खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर आए। जिसके बाद पुन: चुनाव हुए। खाली और भरी कुर्सी के लिए हुए चुनाव में (जनता की अदालत) आशा वांसुरे सफल हुई और चुनाव जीतकर फिर से कुर्सी प्राप्त की। 10 जनवरी को उनका कार्यकाल पूरा हो रहा है। चुनाव में फायर बिग्रेड, बस स्टैंड और सुलभ शौचालय निर्माण जैसे वादे पूरे नहीं हो पाए।

खरगोन नगर में हुए पांच साल में काम
इन पर हुआ काम
-कुंदा नदी पर नवीन पुल
-सीवरेज लाइन
-पेयजल लाइन
-सस्ते आवास
-सड़़कों का चौड़ीकरण

ये वादे जो अधूरे रह गए
-चौबीस घंटे पेयजल
-अवैध कॉलोनियों की वैधता।
-ट्रांसपोर्ट नगर
-लिंक रोड
-आधुनिक सब्जी मंडी

जनता के हित में काम
पांच साल में कई महत्वपूर्ण काम हुए। हमारे द्वारा जनता के हित में सभी काम ईमानदारी से किए। कुछ वादे है, जो पूरे नहीं हुए। कार्यकाल के दौरान शहर को स्वच्छता सर्वेक्षण में आगे रखने में सफल रहे। इस बात की खुशी है।
विपिन गौर, अध्यक्ष नपा खरगोन


पहले से ज्यादा खराब
दो वर्षों में परिषद द्वारा वार्डों में कोई काम नहीं किए। जो सबसे बड़ा दुर्भाग्य है। पेयजल, ड्रेनेज, ट्रांसपोर्ट नगर जैसे वादे अधूरे रह गए।
अल्ताफ आजाद, कांग्रेसी पार्षद

हेमंत जाट Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned