नहरों से पानी देने वाले एनवीडीए के कर्मचारियों के घर टैंकर से पहुंच रहा पानी

दामखेड़ा कॉलोनी क्षेत्र के सरकारी आवासों में जल सप्लाय के लिए स्थाई सिस्टम नहीं, पुराने भवनों का अलॉटमेंट नहीं होने से ट्यूबवेल का नहीं हो रहा उपयोग

By: हेमंत जाट

Published: 11 Dec 2017, 12:48 PM IST

खरगोन. जिलेभर में नहरों का जाल बिछाकर गांव-खेत तक पानी पहुंचाने वाले नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण (एनवीडीए) विभाग के कर्मचारियों को रोजाना पानी का संकट उठाना पड़ रहा हैं। दरअसल, कॉलोनी में 72 पुराने सरकारी आवासों में कर्मचारी-अधिकारी निवासरत है। वहीं करीब 24 क्वार्टरों का निर्माण पांच साल पहले हुआ है, जिनका अब तक अलॉटमेंट नहीं हो सका है। इन भवनों में वाटर सप्लाय के लिए स्थाई पाइप लाइन की व्यवस्था नहीं है। हर घर तक टैंकरों की मदद से पानी पहुंच रहा है। यहां रोजाना एक टैंकर घरों में पानी डालने जाता हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हर परिवार अपने घर के बाहर रखी टंकी में टैंकर से पानी डलवाता है। वहीं पीने के पानी के लिए हर घर में करीब चार डिब्बे पानी दिया जाता है। हर परिवार में दोबारा तीसरे दिन सप्लाय होता है। यह हालात तब है जबकि विभाग खरगोन उद्वहन परियोजना, बिस्टान उद्वहन परियोजना सहित अन्य कई महत्वपूर्ण योजनाओं के माध्यम से लाखों हेक्टेयर जमीन और हजारों लोगों तक नर्मदा जल पहुंचाने का दावा कर रहा हैं। वहीं इन कामों के बदले अफसर कोरे दावे ठोंक रहे हैं।

ट्यूबवेल और बिजली का अवैध उपयोग
एनवीडीए कॉलोनी के सरकारी आवासों में नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कॉलोनी के जी-टाइप तीन भवनों में अफसर बिना अलॉटमेंट के रह रहे हैं। अलॉटमेंट नहीं होने से यहां बिजली कंपनी ने कनेक्शन भी नहीं दिया गया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में यहां ट्यूबवेल की बिजली कनेक्शन का उपयोग घरों में किया जा रहा हैं। सूत्रों ने बताया कि इसका बिल भी कार्यालय द्वारा ही वहन किया जाता हैं।

तीसरे दिन भी घरों में छाया रहा अंधेरा
कॉलोनी के घरों में लगातार तीसरे दिन भी अंधेरा छाया रहा। यहां दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों के करीब 12 घरों में बिजली कंपनी ने शुक्रवार को करीब 50 हजार रुपए से अधिक भुगतान लंबित होने पर कनेक्शन विच्छेद कर दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को यहां रहने वाले कर्मचारी बिजली कनेक्शन दिलाने और भवनों का अलॉटमेंट करने की मांग को लेकर विभागीय अफसरों से गुहार लगाने पहुंचेंगे।

सूची बनवा रहे हैं
सरकारी भवनों के अलॉटमेंट की प्रक्रिया जल्द पूरी करवाई जाएगी। अफसरों को पात्र कर्मचारियों की सूची बनाने के निर्देश दिए हैं। अस्थाई बिजली कनेक्शन कट चुका हैं। अलॉटमेंट के बाद कर्मचारी कनेक्शन लगवा सकेंगे। जल सप्लाय सिस्टम भी सुधरवाएंग
एचआर चौहान, एसई, एनवीडीए, खरगोन।

हेमंत जाट Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned