हाथ में बाबा साहब की फोटो लिए काली पट्टी बांधकर किया विरोध

जिला प्रशासन ने बाबा साहब अंबेडकर की प्रतिमा को रातों रात हटा दिया। जिसके विरोध में सामाजिक संगठनों द्वारा प्रतिमा स्थल पर बाबा साहेब की फोटो पर माल्यार्पण कर विरोध प्रदर्शन

By:

Published: 29 Jun 2021, 12:48 AM IST

खरगोन. विगत 22 फरवरी की रात करीब 3 बजे जिला प्रशासन ने बाबा साहब अंबेडकर की प्रतिमा को रातों रात हटा दिया। जिसके विरोध में सामाजिक संगठनों द्वारा प्रतिमा स्थल पर बाबा साहेब की फोटो पर माल्यार्पण कर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिस ने 18 नामजद व 50-60 अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं पर धारा 188 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया। इस मामले में पुलिस ने नोटिस देकर 28 जून को उन लोगों को बुलाया। इसके विरोध में 18 नामजद लोग काली पट्टी बांधकर व संविधान लेकर पुलिस थाना खरगोन में गिरफ्तारी देने पहुंचे।
नरेंद्र सोलंकी ने बताया 6 माह पहले सामाजिक संगठनों द्वारा बस स्टैंड फव्वारा चौक पर संविधान निर्माता डॉ. आंबेडकर की मूर्ति स्थापित की गई। इसे 22 फरवरी को जिला प्रशासन ने किसी भी सामाजिक संगठन को बिना नोटिस दिए आधी रात हटा दिया। जिसके विरोध में सामाजिक संगठनों ने संवैधानिक दायरे में रहकर जिला मुख्यालय पर शांति पूर्ण तरीके से विरोध दर्ज करवाया । जिसके बावजूद सामाजिक कार्यकर्ताओं पर प्रशासन ने धारा 188 में झूठा केस दर्ज कर लिया।
केस वापस लिए जाएं
नाजी के प्रदेशमहासचिव रामेश्वर बड़ोले, राजू गांगले, पूनमचंद गांगले, सुनील भालसे, नितेश आड़तिया, अमित भालसे, नरेंद्र सोलंकी, ओजस निहाले, विशाल भमोरिया, सुनील चौहान, विजय कोचले आदि ने मांग रखते हुए कहा- कार्यकर्ताओं पर दर्ज केस वापस लिए जाए।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned