यहां से गुजरने वालों पर मंडरा रहा खतरा, कदम-कदम पर है जोखिम

100 मीटर के दायरे में छह जानलेवा गड्ढे, दे रहे दुर्घटनाओं को न्यौता
-सनावद रोड पर उड़ती धूल के बीच खस्ताहाल सड़क से जुझ रहे राहगीर

कॉमन इंट्रो...
गड्ढों से पटी सड़कें। उड़ते धुल के गुबार। दचके खाते वाहन और दुर्धटना का शिकार चालक। यह पहचान बन गई है स्वच्छता में नंबर वन रहे नवग्रह के नगर खरगोन की। सीवरेज व जलावर्धन के लिए अंधाधंूध हो रही सड़क खुदाई ने सड़कों को खाइयों में तब्दील कर दिया है। यह जानलेवा गड्ढे दुर्घटनाओं को न्यौता दे रहे हैं। वाहन चालक भी जान हथेली पर रखकर घर से निकलते हैं और रोजाना इन समस्याओं से दो-चार हो रहे हैं। सनावद रोड के हालात सबसे ज्यादा बद्दतर है। यहां बुधवार को पत्रिका ने महज १०० मीटर की सड़क का जायजा लिया तो छह गड्ढे मिले जो रोजाना दो-चार वाहन चालकों की अग्नि परीक्षा लेते हैं।

100 मीटर के दायरे में बने यह गड्ढे वाहन चालकों को जमीन दिखाने के लिए काफी है

केस- 1
स्थान : भंडारी काम्प्लेक्स
स्थिति : यहां मुख्य मार्ग की खुदाई के बाद सड़क पर गड्ढा बन गया है। इसमें धूल व पत्थर जमा हो गए हैं। इसमें वाहन उतरते ही चालकों का संतुलन बिगड़ जाता है।

केस-2
स्थान : निजी अस्पताल के सामने
स्थिति : यह गड्ढा जहां बना है वहां एक बड़ा निजी हॉस्पिटल है। रोजाना हजारों वाहन चालक इस गड्ढें को लांघकर निकलते हैं। कइ बार बड़े वाहन इस गड्ढे में धंसते हैं और घंटों खड़े रहते हैं।
केस- 3
स्थान : तौल कांटे के नजदीक
स्थिति : सनावद रोड पर ही तौल कांटे के नजदीक बना यह गड्ढा भी रोजाना हादसों को जन्म देता है। बुधवार को भी यहां एक बाइक सवार गिरा। यह गड्ढे रात में नजर नहीं आते। वाहन चालक यहां रात में ज्यादा गिरते हैं।

Gopal Joshi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned