scriptTeasing picture | मुंह चिढ़ाती तस्वीर : कभी सफाई के मामले में मप्र के प्रमुख शहरों में शुमार था शहर, आज गंदगी से कराह रही यहां की जीवनदायिनी नदी | Patrika News

मुंह चिढ़ाती तस्वीर : कभी सफाई के मामले में मप्र के प्रमुख शहरों में शुमार था शहर, आज गंदगी से कराह रही यहां की जीवनदायिनी नदी

-दो सालों से नहीं चला सफाई अभियान, नदी में जलकुंभी ऐसी कि दूर से नदी कम बगीचा ज्यादा लगती है

खरगोन

Published: May 22, 2022 09:23:49 am

खरगोन.
शहर की जीवनदायिनी कुंदा। यह नदी केवल शहरवासियों की प्यास ही नहीं बुझाती। चुनावी जुमनों में भी इसे जनप्रतिनिधि प्रमुखता से शामिल करते हैं। प्रशासन भी करोड़ों रुपए सफाई पर फंूक चुका है, लेकिन अब भी नदी की हालत दयनीय है। सफाई के मामले में कभी मप्र के टॉप शहरों में शुमार रहने वाला खरगोन शहर इन दिनों सर्वेक्षण में फिसड्डी साबित हुआ है। शहर के मुहाने पर बहने वाली नदी ही यहां की सफाई व्यवस्था की पोल खोल रही है। जलधार की जगह जलकुंभी वादों का मुंह चिढ़ा रही है।
अबकि बार स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में खरगोन को टॉप-5 में शामिल करने का लक्ष्य कागजों पर तय किया गया है। जागरूकता के लिए जगह-जगह स्लोगन गढ़े गए हैं। ऐसा ही एक नारा कुंदा नदी तट पर किला परिसर के पास लिखा गया है। इस पर बड़े-बड़े शब्दों में सर्वेक्षण 2022 नगरपालिका पालिका परिषद खरगोन लिखा गया है। शहर में दाखिल होने वालों को यह पंक्ति दूर से ही आकर्षित करती है, लेकिन इसके नीचे कुंदा नदी के हालात बेहद दयनीय है। 2 माह से नदी का पानी सूख गया है। जगह-जगह गंदगी ठहर गई है। शहरी क्षेत्र के अप व डाउन स्ट्रीम में 10000 वर्गफीट से ज्यादा हिस्से में जलकुंभी फैली है। यह नदी को गंदा कर रही है।
Teasing picture
खरगोन. जलकुंभी से भरी कुंदा नदी के ठीक ऊपर स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 का स्लोगन व्यवस्थाओं की पोल खोल रहा है।
हिदायत के बाद रोका गंदा पानी, सफाई करना भूले
सिद्धि विनायक मंदिर के पास के कुंदा में मिलने वाले नाले को रोक दिया है। स्वच्छता सर्वेक्षण के राज्य नोडल अधिकारी अमित गजभिये ने स्वच्छता टीम के पहुंचने से पहले अपने दौरे में कुंदा में मिल रही गंदगी पर नपा अफसरों को हिदायत दी थी कि सर्वे टीम नदी में गंदगी को भी देखेगी। ऐसे हालात में स्वच्छता के अंक कटेंगे। शहरी क्षेत्र में 40 से ज्यादा छोटे बड़े नालों के आसपास सफाई कर खुले चैंबर ढंक दिए हैं। इसके अलावा गणेश मंिदर के पास नाले को बंद कर दिया है। यह नदी के निचले क्षेत्र में चेंबर लाइन से जा रहा है।
2 साल से नहीं चलाया सफाई अभियान
कोरोना काल के चलते दो सालों से नदी पर सफाई अभियान नहीं चला। गाद फिर भर गई है। जबकि स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के सर्वे में वाटर प्लस और स्टार रेटिंग से नालों की सफाई व्यवस्था को जोड़ा है। इसमें वाटर प्लस के 1000 और स्टार रेटिंग के 1250 अंक हैं। इसमें नाले.नालियों को साफ होना चाहिए। उनमें ठोस अपशिष्ट कचरा न जाए। इसके लिए जालियां लगी होना चाहिए।
जनप्रतिनिधियों के वादे रहे अधूरे
कुंदा नदी महज दो लाख आबादी वाले खरगोन शहर की प्यास ही नहीं बुझाती यह शहर की पहचान भी है। हर बार चुनावी मुद्दों में इसका जिक्र प्रमुखता से किया जाता है। सौंदर्यीकरण के नाम पर जनप्रतिनिधि मंचों से वादे, घोषणाएं भी करते हैं। कुंदा पर हर की पौड़ी बनाने का वादा पूर्व विधायक व कैबिनेट मंत्री रहे बालकृष्ण पाटीदार ने किया था, यह सपना अभी कोसो दूर है। पूर्व विधायक बाबूलाल महाजन ने कुंदा नदी में नौका विहार का सपना दिखाया वह भी पूरा नहीं हो पाया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.