scriptThe only son of Divyang parents died in the sky of death | दिव्यांग माता पिता का इकलौता बेटा समा गया मौत के आकोश में, देखते ही देखते चली गई जान | Patrika News

दिव्यांग माता पिता का इकलौता बेटा समा गया मौत के आकोश में, देखते ही देखते चली गई जान

-आईटीआई के स्टूडेंट की महेश्वर में नर्मदा स्नान करते समय डूबने से मौत, गांव में मातम

खरगोन

Published: May 11, 2022 09:52:22 am

खरगोन
समीपस्थ ग्राम बरसलाय में दिव्यांग माता-पिता के होश समय उड़ गए जब उन्हें यह पता चला कि उनका इकलौता बेटा अब इस दुनिया में नहीं रहा। १९ वर्षीय शुभम पिता गबरू दोस्तों के साथ धामनोद से परोसगारी कर लौटते समय महेश्वर में नर्मदा स्नान के लिए रुका था। यहां किला परिसर के सामने वह नर्मदा में डूब गया। महज 2 मिनट में ही वह गहरे पानी में समा गया और उसकी मौत हो गई। हादसे के बाद गांव में मातम पसरा है। दिव्यांग माता-पिता को रो-रोकर बुरा हाल है। पिता के हलक से शब्द नहीं निकल रहे, मां की सिसकियां थमने का नाम नहीं ले रही।
ग्राम बरसलाय के दुर्गेश यादव, प्रवीण यादव पप्पू यादव आदि ने बताया कि शुभम मंगलवार को चार-पांच दोस्तों के साथ मजदूरी पर परोसगारी के लिए धामनोद गया था। सभी दोस्त दोपहर करीब ३ बजे धामनोद पहुंचे। यहां नर्मदा स्नान के लिए रुके। साथी मनीष यादव, सावन यादव ने बताया शुभम को तैरते नहीं आता। हम सभी नहाने के बाद नर्मदा से बाहर निकल आए। इस बीच शुभम कब पानी में उतर गया पता ही नहीं चला। कुछ देर बाद वह नजर नहीं आया तो खोजबीन शुरू की। घाट पर मौजूद गौताखोरों ने नदी की तलहटी खंगाली। करीब 15 मिनट बाद शुभम का शव पानी से निकाला गया।
The only son of Divyang parents died in the sky of death
खरगोन. मृतक शुभम यादव।
ताबड़तोड़ गांव में दी सूचना, पहुंचे ग्रामीण
शुभम के साथियों ने हादसे की सूचना मोबाइल पर ग्रामीणों को दी। गांव में खबर आग की तरह फैली और मातम पसर गया। माता-पिता बिलखने लगे। गांव के वरिष्ठ ग्रामीणों के साथ महेश्वर पहुंचे। यहां शुभम के शव का पीएम कराया। इसके बाद देर शाम गांव लौटे। शाम को ही उसका अंतिम संस्कार किया गया।
आईटीआई का स्टूडेंट था शुभम
गांव के विजय यादव, रविंद्र यादव ने बताया शुभम होनहार स्टूडेंट था। अभावों में बड़ा हुआ शुभम आईटीआई की पढ़ाई कर रहा था। अंतिम साल की पढ़ाई जारी थी। इकलौता बेटा होने के कारण अब माता-पिता का अंतिम चिराग भी बुझ गया है। माता-पिता की जिम्मेदारी उसी पर थी लेकिन इस हादसे ने उन्हें भी तोड़कर रख दिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंIPL 2022 RCB vs GT live Updates: पावर प्ले में गुजरात 2 विकेट के नुकसान पर 38 रनों पर6 साल की बच्ची बनी AIIMS की सबसे कम उम्र की ऑर्गन डोनर; 5 लोगों को दिया नया जीवनGyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.