scriptThe riots that left the bite | दंगे जो छोड़ गए दंश : उपद्रवियों ने घर ही नहीं जलाए, लूट भी की | Patrika News

दंगे जो छोड़ गए दंश : उपद्रवियों ने घर ही नहीं जलाए, लूट भी की

-कई परिवारों का सामान, आभूषण व नकदी भी गायब, किसी ने शादी के लिए तो किसी ने बीमार मां के इलाज को लेकर रखे थे रुपए

खरगोन

Published: April 16, 2022 07:10:11 pm

खरगोन.
रामनवमीं पर निकली शोभायात्रा पर हुए पथराव के बाद भड़की हिंसा ने खरगोनवासियों को खौफजदा कर दिया है। उपद्रव पत्थरबाजी, आगजनी तक ही सीमित नहीं रहा। दंगाइयों ने कई घर भी लूटे। नकदी, आभूषण सहित घरेलु सामान तक ले गए। अब परिवारों के हिस्से में केवल दर्द है। किसी ने बच्चों की शादी के लिए तो किसी ने बीमार मां के इलाज को लेकर रुपए घरों में रखे थे, उपद्रवी सबकुछ ले गए।
संजय नगर निवासी महेश मुछाल ने बताया उनकी मां बीमार है। इलाज के लिए ३० हजार रुपए घर पर रखे थे। रामनवमीं के दिन अचानक उपद्रव हुआ। परिवार खुद को बचाने के लिए रिश्तेदारों के घर चले गए। दंगाइयों ने पूरे घर को आग के हवाले किया। जिस अलमारी में रुपए रखे थे वह गायब है। तालाब चौक निवासी सूरजबाई के घर भी लूट हुई है। यहां भी अलमारी में रखा कीमती सामान गायब है।
The riots that left the bite
खरगोन. आनंद नगर क्षेत्र में सुनीता गांगले के घर पहुंची कलेक्टर।
बेटे की शादी के लिए खरीदे आभूषण
आनंद नगर निवासी सुनीता गांगले बताती है कि रामनवमीं की रात करीब २ बजे अचानक पीछे के रास्ते दंगाइयों ने पथराव शुरू किया। कुछ देर बाद पीछे के कमरे से आग निकलती दिखी। अंदर जाकर देखा तो सबकुछ जलकर राख हो गया था। सुनीता ने बताया बेटे अंकित की शादी को लेकर 3.50 लाख के आभूषणों की खरीदी की थी। घर में 1.50 लाख रुपए भी नकद थे। दंगाई सबकुछ लूट कर ले गए।
घर में रखे आभूषण, नकदी की लूट
संजय नगर त्रिवेणी चौक निवासी आशा पति दुर्गेश पंवार ने बताया दंगे की रात उपद्रवियों ने जमकर तोडफ़ोड़ की। घर में रखे आभूषण, नकदी और अन्य सामान निकालकर ले गए। एक कमरे में बुजुर्ग सास मंगतीबाई पंवार घर पर थी। उस कमरे में भी सामान को तहस-नहस कर आग लगा दी। घर के पीछे के दरवाजे से भागकर रिश्तेदार के यहां पहुंचे तो जान बची।
फंूक की दुकान, परिवार का बुरा हाल
संजय नगर निवासी संतोष कुमावत की किराना दुकान को उपद्रवियों ने फंूक दिया। परिवार के भरण-पोषण का एकमात्र साधन छीन गया। संतोषी चौहान तो दंगों की दास्ता सुनाते समय आंसू नहीं रोक पाए। जिसका कहना है रविवार की रात जीने की उम्मीद छोड़ दी थी। जैसे-तैसे बचें। पूरा घर टूट गया है। नए सिरे से गृहस्थी जोडऩा अब मुश्किल होगा। सरकार और प्रशासन जब मदद करेगा तब करेगा, अभी तो भूखे मरने की नौबत आ गई।
जो बुझाता है जले मकानों की आग, उसका आशियाना आग के हवाले
नगरपापालिका के फायर फाइटर के चालक सुभाष नानुराम आनंद नगर में रहते हैं। जब शहर के अलग-अलग इलाकों में आगजनी हो रही थी तब सुभाष फायर फाइटर से आग बुझा रहे थे। रात करीब २ बजे सूचना मिली की आपके घर ही आग लगी है। घर ऐसी जगह है जहां फाइटर भी नहीं पहुंचा। सुभाष ने बताया आंखों के सामने सबकुछ जलकर राख हो गया।
दंगों की साजिश : सुनकर उड़ गए होश
काजीपुरा में सिलेंडर ब्लॉस्ट करने की कोशिश
काजीपुरा क्षेत्र के वायरल वीडियो में कुछ उपद्रवी गैस सिलेंडर लेकर आते और उसे आग के हवाले करने की कोशिश करते नजर आए।
बड़ी गुलेल से उड़ाए गए पत्थर
खसखसवाड़ी क्षेत्र में बड़ी गुलेल से पत्थर उड़ाने की बातें भी रहवासियों ने बताई। कुछ वीडियो व फोटो पुलिस तक भी पहुंचे है। इसकी पड़ताल की जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.