किसानों के अरमानों पर गिरे 'ओलेÓ, आफत की बारिश में फसलें हुई बर्बाद

जिलेभर में कई स्थानों पर हवा-आंधी के साथ तेज बारिश और ओलावृष्टि, किसानों में छाई मायूसी, खेतों में खड़ी व कटी फसलों को हुआ नुकसान

By: हेमंत जाट

Published: 18 Feb 2021, 09:20 PM IST

खरगोन.
प्रकृति के आगे बार फिर अन्नदाता की हार हुई। जिले में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को बर्बादी की कगार पर खड़ा कर दिया। गुरुवार को जिले के कई क्षेत्रों में हवा-आंधी के साथ तेज बारिश और ओले गिरे। यह ओले किसानों के अरमानों पर मुसीबत बनकर गिरे। खरगोन सहित लगभग हर तहसील में बारिश और ओलावृष्टि हुई। शहर में शाम छह बजे गरज चमक के साथ बारिश हुई। इस दौरान बिजली का आना-जाना जारी रहा। आसपास के ग्राम घोटया, सुरपाला, गंधावड़, इच्छापुर, उबदी, अघावण, अकावल्या और नंदगांव में काफी नुकसान हुआ है।

सतपुड़ा अंचल में सफेद बर्फ की चादर जमीं
सतपुड़ा अंचल के अंतर्गत आने वाले गांवों में गुरुवार को बेमौसम बारिश ने तबाही मचाई। यहां चने के आकार के ओले गिरे। देखते-देखते पहाड़ों पर बर्फ की परत जम गई। अमल्यापानी में बारिश के साथ ओले गिरे है यहां पर कश्मीर जैसा नजारा देखने को मिला है । आफत की बारिश से गेंहू चने की फसलों को नुकसान हुआ है। क्षेत्र के बागदरा, पिपलझोपा, सिरवेल, काबरी धूलकोट, जलालाबाद, गोपालपुरा, देजला देवाड़ा, थरड़ पूरा आदि स्थानों पर तेज हवा अंधी बारिश के साथ ओले गिरे। मावठे के कारण फसलों को नुकसान हुआ है।

हेमंत जाट Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned