scriptWater crisis: farmers' crops withered, selling cattle | जलसंकट: किसानों की फसल मुरझाई, बेच रहे मवेशी | Patrika News

जलसंकट: किसानों की फसल मुरझाई, बेच रहे मवेशी

खरगोन तहसील के दो दर्जन गांवों में दैनिक उपयोग और मवेशियों के लिए पानी नहीं, ग्रामीणों को करना पड़ रही जद्दोजहद, बड़वाह और भीकनगांव की तहसीलों में भी स्थिति खराब

खरगोन

Published: November 08, 2021 10:54:12 am

हरिनाथ द्विवेदी
खरगोन. खरगोन जिला मुख्यालय से 15 से 20 किमी दूर गांवों में लोग गंभीर जलसंकट से जूझ रहे हैं। पानी की किल्लत के चलते पंधानिया गांव के 40 से 50 किसानों ने अपने मवेशी बेच दिए। पीने के लिए भी टैंकर से पानी मंगवाना पड़ रहा है। कुछ लोग गांव से दूर कुंओं और बावडिय़ों से पानी जुटा रहे हैं। ये पहली बार है जब बारिश के तुरंत बाद ऐसे हालात बने हैं। इस बार कई क्षेत्रों में चार से छह इंच कम बारिश हुई। औसत बारिश का आंकड़ा 28 इंच है, लेकिन इस बार सिर्फ 24 इंच बारिश हुई।
कम बारिश से पहले फसल खराब हुई, अब मवेशियों को औने-पौने दाम पर बेचने से किसानों पर दोहरी मार पड़ रही है। पंधानिया के किसान अखिलेश पाटीदार ने बताया कि कम बारिश से कपास, सोयाबीन और मक्का की फसल पूरी तरह खराब हो गई। मवेशियों को खिलाने के लिए चारा नहीं है, पानी का भी संकट है इसलिए दो गायों को गोशाला छोड़ आए। उसी गांव के किसान रामेश्वर पाटीदार, दिनेश यादव, वरुण बार्चे ने बताया कि गांव में पीने को पानी नहीं मिला है। दूसरे गांवों से पानी लाकर प्यास बुझा रहे हैं। कुछ लोग टैंकर से पानी मंगवा रहे हैं। एक टैंकर पानी सिर्फ दो-तीन दिन चलता है। उसके लिए 400 से 500 रुपए प्र्रति टैंकर खर्च करने पड़ते हैं। पंधानिया के साथ गांव छालपा, इदारतपुर, अघावण, रामपुरा, रजूर, उपदी, अकवाल्या, रमणगांव, असनगांव, गोपालपुरा, निमगुल, पोखर, मोठापुरा, घुघरी, डोंगरगांव, नदंगाव बगूद में भी यही हालात हैं।
ग्राम छलापा के कमलेश पाटीदार कहते हंै कि बारिश के बाद हमेशा नलकूप और बोरिंग रिचार्ज हो जाया करते थे, सालभर काम चल जाता था, केवल गर्मी में परेशानी होती थी। इस बार सूखे के कारण खेतों में कुएं-बोरिंग खाली पड़े हैं। पीने के लिए बलकवाड़ा टैंकर मंगवाकर पानी का उपयोग करते हैं। यह समस्या पूरे गांव की है। पाटीदार ने अपनी चार भैंसों को इसलिए बेच दिया कि खिलाने के लिए चारा नहीं है। आसपास की 24 पंचायतों में जलसंकट की समस्या को लेकर प्रशासन को ज्ञापन दिया लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकला।
यह हाल सिर्फ खरगोन तहसील के गांवों के नहीं है, झिरन्यिा, भीकनगांव और बड़वाह में भी लगभग यही स्थिति है। गांवों में पीने के लिए ठीक से पानी नहीं मिल रहा है। मवेशियों पालने में भी किसानों को मुश्किल आ रही है। इस कारण किसान परिवार मवेशियों को बेचने और गोशाला में छोडऩे को मजबूर है। कुएं और ट्यूबवेल पर रीते पड़े हैं। ऐसे में सूखे से प्रभावित क्षेत्र में गेहूं और चने की फसल भी खराब होने की आशंका हैै। बड़वाह तहसील के ग्राम हीरापुर के किसान दुर्गाराम, हुकुमचंद, मांगत, चेतन गुलाबचंद ने बताया कि इस बार औसत से कम बारिश होने से कुएं और बोरिंग रिचार्ज नहीं हो पाए। आसपास कोई बड़ा तालाब और डैम भी नहीं है। जिससे सिंचाई कर पाएं। इसलिए रबी सीजन में गेहूं और चने की फसल नहीं ले पाएंगे।
- अल्पवर्षा के कारण कुछ गांवों में पानी की समस्या है। सर्वे करवा रहे हैं। करीब आधा दर्जन गांवों में ज्यादा परेशानी है। पेयजल के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी। जिन गांवों के आसपास तालाब है, वहां नहरों से पानी छोडऩे के लिए नर्मदा विकास प्राधिकरण को पत्र लिखा है।
सुमेरसिंह मुजाल्दा, अपर कलेक्टर खरगोन
Water crisis: farmers' crops withered, selling cattle
Water crisis: farmers' crops withered, selling cattle

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

PM Modi आज राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं के साथ करेंगे बातचीत, एक लाख रुपए के साथ मिलेगा डिजिटल सर्टिफिकेटUP चुनाव में अब तक 6705 KG ड्रग्स, 5 लाख लीटर शराब पकड़ी गईCovid-19 Update: देश में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 3.33 लाख नए मामले, 525 मरीजों की गई जानकोरोना ने टीका कंपनियों को लगाई मुनाफे की बूस्टरभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्रसोना चांदी पॉलिस दुकान का शटर तोड़कर लाखों की चोरी, सीसीटीवी कैमरे से मिला सुराग, यूपी के दो शातिर बदमाश गिरफ्तारpetrol diesel price today: पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बदलाव नहींसैकड़ों नेताओं ने थामा सपा का दामन, युवजन सभा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सचिव बने सुरेंद्र कुमार यादव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.