महिलाएं हिंसा का शिकार होने पर इन नंबरों करें काल, तत्काल मिलेगी मदद

महिलाओं के खिलाफ हिंसा रोकने के लिए जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन

By: tarunendra chauhan

Updated: 27 Nov 2020, 12:27 PM IST

खरगोन. बच्चों एवं महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन के लिए अंतरराष्ट्रीय महिला उन्मूलन दिवस पर थाना परिसर में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दिवस को महिलाएं हिंसा के विभिन्न रूपों और मुद्दे की वास्तविक प्रकृति के अधीन के तथ्य के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता हैं। सयुंक्त राष्ट्र संघ का मानना है किए महिलाओं के खिलाफ हिंसा मानवाधिकार का उल्लंघन है और इसके पीछे की वजह महिलाओं के साथ भेदभाव सहित शिक्षा, गरीबी, एचआईवी और शांति जैसे मुद्दों से जुड़ा है।

इसी तारत्मय में थाना परिसर में बच्चों एवं महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग की पर्यवेक्षक चंद्रकिरण सिरोले की उपस्थिति में थाना प्रभारी संजय द्विवेदी द्वारा परिचर्चा की गई । परिचर्चा के दौरान थाना प्रभारी द्वारा बच्चों एवं महिलाओं के साथ किन स्थानों पर किस तरह से, किन लोगों द्वारा हिंसा की संभावना रहती है एवं उनके उन्मूलन के लिए क्या सुरक्षात्मक उपाय किए जा सकते हंै । इस विषय पर विस्तृत चर्चा की गई।

चर्चा के दौरान उपस्थित छात्राओं को चाईल्ड हेल्पलाइन, महिला हेल्पलाइन के नंबर बताए गए, उनकी उपयोगिता एवं महत्व के बारे में जानकारी दी गई साथ ही अपने आस-पास बच्चों एवं महिलाओं के साथ हिंसा को देखने पर आगे आकर रोकथाम के लिए 100 डायल या थाने के नंबर का उपयोग करने एवं पुलिस को सूचना देने का संकल्प दिलाया गया। बच्चों व महिलाओं के विरुद्ध हिंसा स्वीकार नहीं है, इसकी रोकथाम संभव है। हर बच्चे व महिला को गरिमा पूर्व व हिंसा मुक्त जीवन जीने के अधिकार ह। बचपन में घटित हिंसा बच्चों के मानसिक, भावनात्मक व शारीरिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जिससे की पूरे जीवन को प्रभावित कर सकता है। हर व्यक्ति को बच्चों के विरुद्ध हिंसा को खत्म करने का संकल्प लेना चाहिए। छात्राओं से निबंध लेखन कराए गए । जिसमें छात्राओं ने हिंसा के कारणों एवं उनकी रोकथाम के संबंध में अपने सारगर्भित विचार लेख लिखें।

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned