नहीं रहे 400 साल के बरगद दादा

नहीं रहे 400 साल के बरगद दादा

Kali Charan kumar | Updated: 12 Jun 2019, 07:47:21 PM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

सागर परिसर में लगा था प्राचीन बरगद का पेड़
इसकी शाखाएं सालों से पक्षियों का डेरा

पुराना शहर सुख सागर परिसर में स्थित करीब 400 साल पुराना बरगद का पेड़ आखिरकार गिर गया। इस बरगद के पेड़ के गिरने का कारण जड़ों का गलना बताया जा रहा है। सालों पुराने इस बरगद के पेड़ गिरने की जानकारी मिलने पर क्षेत्रीय लोगों की भीड़ जमा हो गई और हर किसी की जुबान पर बरगद के पेड़ की उम्र और गिरने की बात थी।
सालों के पतझड़ झेल चुके पुराना शहर के सुख सागर परिसर में उगा यह बरगद का पेड़ मंगलवार देर शाम को गिर गया। पुराना शहर लुहाडिय़ावास निवासी बुजुर्ग लादूराम सांई (90) ने बताया कि यह बरगद का पेड़ उन्होंने सालों से देखा है। इसके तने की मोटाई करीब 5-6 फीट है और ऊंचाई करीब 65 से 70 फीट है। इस बरगद के पेड़ की शाखाएं भी काफी लम्बी और घनी है। शम ढलते ही पशिक्षों का झूंड से बरगद की टहनियां लद जाया करती थी। चिलचिलाती धूप में क्षेत्र के लोग इसकी छांव में बैठना पसंद करते थे। लेकिन अब इस प्राचीन बरगद के पेड़ की छांव में बैठने का सुकून नसीब नहीं होगा। यह सालों पुराना प्राचीन पेड़ उखड़ कर धराशाही हो गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned