मुख्य न्यायाधीश के पास पहुंचा न्यायालय भवन स्थानांतरण का मामला

अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बार सदस्यता से बर्खास्त : साधारण सभा में लिया निर्णय

By: kali charan

Published: 14 Aug 2019, 12:32 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मदनगंज-किशनगढ़. बार एसोसिएशन किशनगढ़ की साधारण सभा एवं संघर्ष समिति की संयुक्त आम सभा बार कक्ष में हुई। यह आम सभा संयोजक मोहम्मद हुसैन माजवी की अध्यक्षता में हुई। बार में लिए निर्णय के बाद वकील दीपक दाधीच, हीरालाल चौधरी, शरद पारीक, महेंद्र डबरिया, प्रमोद शर्मा, राधेश्याम मालाकार एवं प्रदीप अग्रवाल बतौर बार के प्रतिनिधि मंडल के रूप में राजस्थान उच्च न्यायालय जोधपुर के मुख्य न्यायाधीश से मुलाकात की और प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों ने मुख्य न्यायाधीश के समक्ष किशनगढ़ न्यायालय भवन स्थानांतरण को लेकर अपना पक्ष रखा। इस पर मुख्य न्यायाधीश ने प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों को प्रकरण में जिला जज अजमेर से सम्पूर्ण तथ्यात्मक रिपोर्ट मंगवा कर उसके बाद ही उक्त प्रकरण में निर्णय लिए जाने का आश्वासन दिया। प्रतिनिधि मंडल ने परासिया क्षेत्र में न्यायालय भवन निर्माण किए जाने की मांग दोहराई। इस पर मु?य न्यायाधीश ने किशनगढ़ में न्यायालय भवन निर्माण का निर्णय बार एसोसिएशन की ही सहमति से लिए जाने का भी आश्वासन दिया। लेकिन उक्त प्रकरण में किसी प्रकार का लिखित में आश्वासन नहीं दिए जाने एवं जिला जज की सहमति आने तक न्यायिक कार्य के बहिष्कार का बार एसोसिएशन ने साधारण सभा में सर्वसहमति से निर्णय लिया। इसके साथ ही साधारण सभा में अध्यक्ष दीपक दाधीच एवं उपाध्यक्ष गणेश प्रजापत को पदों और बार एसोसिएशन की सदस्यता से तुरंत प्रभाव से बर्खास्त करने का निर्णय लिया। साथ ही मुख्य न्यायाधीश एवं जिला जज को सहमति पत्र देने के लिए पत्र प्रेषित किए जाने का भी निर्णय लिया। साधारण सभा में वकील रामधन पोषक, रतनलाल चौधरी, शिवा पंवार, राजेंद्र शर्मा, श्याम मनोहर पुरोहित, इंद्रेश कुमार रामचंदानी, उमराव चौधरी, प्रतीक मेहता, हीरालाल चौधरी, नवीन बैरवा, महेश मालाकार समेत अन्य वकीलगण ने अपने विचार व्यक्त किए। इस मौके पर सभी ने 15 अगस्त को सुबह 8.30 बजे स्वाधिनता दिवस संयोजक मोहम्मद हुसैन माजवी के नेतृत्व में मनाने का भी निर्णय लिया गया।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned