खेतों में गहरी जुताई, बढ़ेगी उपजाऊ क्षमता

खेतों में गहरी जुताई, बढ़ेगी उपजाऊ क्षमता

Kali Charan kumar | Updated: 30 May 2019, 12:41:37 PM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

प्री मानसून के साथही खरीफ की होती है जुताई

मदनगंज-किशनगढ़. किशनगढ़ पंचायत समिति के गांवों में इन दिनों काश्तकार खेतों की गहरी जुताई करने में जुटे है। इससे खेत उपजाऊ होंगे और उसमें कीट आदि का खात्मा होगा।
नगर सहित आस-पास के खेतों में अच्छे मानसून की आस के साथ काश्तकार खेतों में फिर से जुट गए हैं। वर्तमान में खेतों में गहरी जुताई की जा रही है। काश्तकार खेतों में गहरी जुताई कर उसे छोड़ देते हैं। 15-20 तक खेत में तेज धूप लगने देते है। इससे मिट्टी में दबे हानिकारक कीटाणु बाहर निकल जाएंगे। साथ ही तेज हवा अथवा आंधी तूफान की स्थिति में खेत की मिट्टी भी उड़कर नहीं जाएगी। इससे मिट्टी उपजाऊ होती है। यहां पर मुय रूप से रबी और खरीफ की फसल होती है। कुएं तालाब और बारिश की कमी के कारण पिछले कुछ समय से बुवाई कम हुई है। हालांकि कई खेतों में गहरी जुताई का कार्य पूरा हो चुका है, तो कुछ में कार्य जारी है।
प्री-मानसून से होती है बुवाई
देश में केरल से मानसून प्रवेश करता है। मानसून के प्रवेश के पहले ही प्री-मानसून बारिश का दौर शुरू हो जाता है। प्री मानसून की बारिश के साथ ही प्रदेश में खरीफ की बुवाई का कार्य प्रारंभ हो जाता है। हालांकि अभी बुवाई में काफी समय है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned