पहले ही दिन पौधों से हुई अच्छी आमदनी

नर्सरी में पहले दिन बिके 350 पौधे
पौधरोपण के लिए अच्छी बारिश का इंतजार
वन विभाग ने एक लाख 85 पौधे किए तैयार

By: kali charan

Published: 01 Jul 2019, 07:00 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़. चिडिय़ा बावड़ी स्थित वन विभाग की नर्सरी में छायादार और फलदार पौधे की ब्रिकी शुरू हो गई है। नर्सरी में पहले दिन करीब 350 पैधों की बिक्री हुई है। वन विभाग की ओर से एक लाख 85 हजार पौधे तैयार किए गए। आगामी दिनों में अच्छी बारिश के साथ ही इसमें ओर तेजी आने की उम्मीद है।
वन विभाग की नर्सरी में विभिन्न योजनाओं के तहत पौधे तैयार किए गए है। पौधों के तैयार होने से नर्सरी में चहुंओर हरियाली दिखाई देने लगी है। विभाग की ओर से छायादार, फलदार और फूलदार तीनों ही तरह के पौधे तैयार किए गए हैं। यहां पर तैयार किए गए एक साल के पौधों की कीमत पांच रुपए है। कै?पा योजना के तहत तैयार पौधों की कीमत 15 रुपए निर्धारित है।
बारिश के साथ शुरू होगा पौधरोपण
उपखण्ड सहित आस-पास के क्षेत्र में मानसून सक्रिय हो गया है। बारिश का दौर भी शुरू हो गया है। आगामी दिनों में एक-दो तेज बारिश होते ही पौधों की बुवाई का दौर शुरू होगा। इसके तहत पंचायतों में, स्कूलों में और स्वयं सेवी संगठनों की ओर से पौधरोपण किया जाएगा।
प्राइवेट नर्सरियों की भी सजने लगी दुकानें
नगर में अजमेर रोड पर प्राइवेट नर्सरियां में भी पौधों की बिक्री करती है। वर्तमान में अजमेर रोड पर नर्सरी में पौधों की ब्रिकी प्रारंभकर दी है। कुछ लोग अजमेर, पुष्कर से भी ग्रा?टेड पौधे लेकर आते हैं। इसमें जल्दी ही फूल और फल लगने के कारण लोगों की ग्रा?टेड पौधे पहली पसंद बनते जा रहे हैं।
यह किए पौधे तैयार
वन विभाग की चिडिय़ा बावड़ी नर्सरी में एक लाख 15 हजार पौधे तैयार किए गए है। इसी 10 हजार बनेवड़ी नर्सरी में तैयार किए गए है। इसी प्रकार 59 हजार पौधे कै?पा योजना के तहत तैयार किए है।
सरकारी स्कूलों में आज होगा पौधरोपण
रलावता के तीन सरकारी स्कूलों में मंगलवार को पौधरोपण किया जाएगा। इसके लिए वन विभाग की नर्सरी से सोमवार को तीन सौ पौधे लेकर गए है। बाल सभा के बाद पौधरोपण किया जाएगा। यह राज्य सरकार के हरित पाठशाला अभियान के तहत किया जाएगा।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned