सलाखों में घुसखोर पीएचईडी एईएन और उसका वरिष्ठ सहायक

सलाखों में घुसखोर पीएचईडी एईएन और उसका वरिष्ठ सहायक

Kali Charan kumar | Updated: 24 May 2019, 11:58:30 AM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

एक लाख की रिश्वत लेते पकड़े गए थे दोनों आरोपित
एनओसी जारी करने की एवज में मांगी थी रिश्वत
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो अजमेर चौकी की कार्रवाई

मदनगंज-किशनगढ़. एक लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए आरोपित जलदाय विभाग के सहायक अभियंता और वरिष्ठ सहायक को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने गुरुवार को एसीबी कोर्ट में पेश किया। जहां से दोनों आरोपितों को जेल भेज दिया गया। ब्यूरो की टीम फिलहाल एईएन और वरिष्ठ सहायक के सम्पति संबंधित दस्तावेजों को खंगाल रही है और आकलन करने में करीब एक दो दो तीन लग सकते है।
एसीबी के एडिशनल एसपी सी.पी. शर्मा ने बताया कि इस पर जलदाय विभाग किशनगढ़ के सहायक अभियंता के एईएन सुरेन्द्र कुमार और वरिष्ठ सहायक नवरतन सोलंकी को सक्षम अदालत में पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। एसीबी की टीम एईएन सुरेंद्र कुमार एवं वरिष्ठ सहायक नवरतन सोलंकी की सम्पति, घर पर मिले कीमती वाहनों और अन्य वाहनों की खरीद फरोख्त के दस्तावेजों की भी जांच कर रही है। एसीबी की टीम ने सुरेंद्र कुमार के अग्रसेन विहार स्थित मकान से भी सम्पति संबंधित कई दस्तावेज कब्जें लिए है।
यह है मामला
डीएफसीसी प्रोजेक्ट के तहत आजादनगर से चमड़ाघर तक पाइप लाइन को शिफ्ट किया गया है और यह कार्य सितम्बर 2018 में पूरा हुआ। डीएफसीसी के ठेकेदार और परिवादी जाटली निवासी मंगलाराम जाट ने जलदाय विभाग से एनओसी की मांग की। एनओसी जारी करने की एवज में एईएन सुरेन्द्र कुमार ने एक लाख रुपए की मांग की। इस पर ठेकेदार ने यह रकम उसे दे दी। रकम देने के बाद भी एईएन ने ठेकेदार को एनओसी जारी नहीं की और इसके लिए ठेकेदार ने फिर एईएन से सम्पर्क किया। एईएन ने उसे वरिष्ठ सहायक नवरतन सोलंकी से मिलने की बात कही। ठेकेदार उससे मिला तो वरिष्ठ सहायक सोलंकी ने उससे एक लाख रुपए और देने की मांग रखी। परेशान मंगलाराम जाट ने 15 मई को अजमेर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो अजमेर चौकी में सम्पर्क कर शिकायत की। एसीबी की टीम ने शिकायत के सत्यापन के बाद 22 मई सुबह अम्बेडकर सर्किल के पास एईएन ऑफिस पहुंचा। यहां उसे एईएन सुरेन्द्र कुमार मिला और उसने एनओसी पर हस्ताक्षर कर एक लाख रुपए वरिष्ठ सहायक नवरतन सोलंकी को देने की बात कहते हुए दो लाख रुपए की मांग कर दी। ठेकेदार ने यह राशि देने के लिए एनएच आठ स्थित जलदाय विभाग अधिशासी अभियंता कार्यालय में मौजूद वरिष्ठ सहायक सोलंकी के पास पहुंचा और ठेकेदार ने यहां पर पानी की टंकी के पास उसे एक लाख रुपए हाथ में दिए। इससे पूर्व एसीबी की टीम एईएन सुरेंद्र कुमार को हिरासत में ले लिया और उसे साथ लेकर मौके पर आ गई और वरिष्ठ सहायक सोलंकी को नकदी समेत पकड़ लिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned