जो बोले सो निहाल की गूंज, निकाला नगर कीर्तन

मुख्य मार्गों पर गतका दल ने दिखाए करतब

गुरुग्रंथ साहब की निकाली पालकी

By: Narendra

Published: 06 Jan 2020, 01:59 AM IST

Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

मदनगंज-किशनगढ़ (अजमेर).

सिख समाज की ओर से पंथ के संस्थापक दशम गुरु गुरु गोविंद सिंह जयंती उत्सव अंतर्गत रविवार को प्रकाश पर्व मनाया गया।

इस अवसर पर नगर कीर्तन का आयोजन किया गया। जयपुर रोड स्थित आरके कम्युनिटी सेंटर से नगर कीर्तन शोभायात्रा के साथ रवाना हुआ। नगर कीर्तन के आरंभ होने के समय पंज प्यारो की अगुवाई में गुरु ग्रंथ साहिब की पालकी सजाई गई। पालकी के साथ ही सिख समाज के पुरुष व महिलाएं सत श्री अकाल के उद्घोष के साथ नगर कीर्तन में पहुंची।

यहां अजमेर सांसद भागीरथ चौधरी ने गुरु ग्रंथ साहिब के मत्था टेका और पंज प्यारो का माल्यार्पण कर शोभायात्रा को रवाना किया। सांसद चौधरी स्वयं भी शोभायात्रा में शामिल हुए। मुख्य चौराहे पर विधायक सुरेश टांक ने शोभायात्रा का स्वागत करते हुए गुरुग्रंथ साहिब के मत्था टेका और पंज प्यारो का माल्यार्पण किया।
गतका दल ने दिखाए करतबनगर कीर्तन में जयपुर के गतका दल अकाल पुरख की फौज ने एक से बढ़कर एक करतब दिखाते हुए कला का प्रदर्शन किया। नगर कीर्तन के दौरान सिख समाज की महिलाओं ने झाड़ू हाथ में लेकर पूरे मार्ग की सफाई कर सेवा एवं स्वच्छता का संदेश दिया। नगर कीर्तन में बाहर से आए समाज के लोग भी उत्साह के साथ पहुंचे। जिनकी अगुवाई स्थानीय गुरु सिंह सभा के सदस्यों ने की।

विभिन्न संगठनों ने किया स्वागत

नगर कीर्तन के दौरान विभिन्न समाजों के लोगों ने गुरु ग्रंथ साहिब की पालकी पर पुष्प वर्षा की। रजा सोशल सर्विस एंड वेलफेयर सोसायटी के सदस्य हाजी जावेद देशवाली, अमीनुद्दीन पठान, जाकिर निजामी, हाजी मेहबूब, नवाब पठान आदि ने जामा मस्जिद के पास नगर कीर्तन का स्वागत किया। इसी तरह मां भारती रक्षा मंच के लक्ष्मीनारायण सोनगरा, कन्हैयालाल वर्मा, अश्विनी परिहार, महेंद्र सिंह, गिरिराज दायमा आदि ने स्वागत किया। राजस्थान पेंशनर्स समाज की ओर से अजमेर रोड पर स्वागत किया।
सजाया विशेष दीवान

अजमेर रोड स्थित एनके हेलीमेक्स सभागार में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित हुए। ओसवाली मोहल्ला स्थित गुरु सिंह सभा गुरुद्वारा की ओर से गुरु ग्रंथ साहिब का विशेष दीवान सजाया गया। सजे दीवान पर मत्था टेकने के लिए सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। गुरु ग्रंथ साहिब के दर्शन के बीच महिलाओं-पुरुषों ने सामूहिक रुप से सुखमणि साहिब पाठ का आयोजन किया।

इस दौरान अजमेर से आए रागी जत्थे ने नासुरो मंसूर गुरु गोबिंद सिंह शाहे शहनशाह गुरु गोबिंद सिंह एवं दसवें पिता दिया खुशियां जो लेनिया खंडे वाला अमृत पी गायन कर शबद कीर्तन की शुरुआत की। उसके पश्चात देह शिवा वर मोहे अहे शुभ कर्मन ते कभु ना डरो शबद कीर्तन से गुरु गोविंद सिंह के चरित्र, त्याग, बलिदान की गाथा का वर्णन किया।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए कमेटी सचिव जसवंत सिंह दारा ने गुरु पर्व पर सेवा देने वाले वालों का आभार व्यक्त किया। अंत में गुरु ग्रंथ साहिब के समक्ष सुख शांति की अरदास के पश्चात गुरु का अटूट लंगर बरताया गया। प्रकाश पर्व पर रात्रि को गुरुद्वारे को रोशनी सजाया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned